सोने के जेवरात में 'मेक इन इंडिया' को मिलेगा बढ़ावा

नई दिल्ली (26 जुलाई) : सरकार सोने के गहनों के कारोबार में भी 'मेक इन इंडिया' को बढ़ावा देने के लिए कई कदम उठाने जा रही है। इसके लिए देश में सोने के खनन को बढ़ावा देने के साथ जेवरात के अनुसंधान-विकास में अधिक निवेश किया जाएगा।

सरकार ने अरुणाचल प्रदेश और झारखंड में संभावित सोने की खानों की पहचान कर ली हैं। सूत्रों ने बताया कि पिछले 5-6 महीने में सोने का औसत मासिक आयात 70 टन से घटकर 15 टन ही रह गया है, लेकिन सोने के जेवरात का निर्यात बहुत बढ़ा है। ऐसे में सोने में न के बराबर काम किया जाता है या बाजार से 3 से 5 फीसदी कम दाम पर खरीदकर उसका निर्यात कर दिया जाता है।

सरकार ने बुलियन फेडरेशन से महीने भर में सभी समस्याएं तथा उनके संभावित समाधान मांगे हैं। पिछले शनिवार को रत्न एवं आभूषण महासंघ के साथ बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था, 'दुनिया भर में हाथों से बने आभूषणों की मांग बढ़ रही है। ऐसे में रत्न एवं आभूषण उद्योग को भारत से बाहर बाजार तलाशकर अपनी छाप छोडऩी चाहिए।'