IIT में पढ़ाई के लिए चुकानी होगी तीन गुनी फीस!

नई दिल्ली (18 मार्च): देश के प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थान इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नॉलॉजी (आईआईटी) की फीस में तीन गुना बढ़ोतरी हो सकती है। आईआईटी काउंसिल की स्टैंडिंग कमिटी ने अपनी रिपोर्ट में फीस बढ़ाने की सिफारिश की है। अगर ये सिफारिश मान ली जाती है तो जो फीस बढ़कर 3 लाख रुपए हो जाएगी। फिलहाल इस वक्त फीस केवल 90 हजार रुपए है। हालांकि इस पर आखिरी फैसला मानव संसाधन मंत्रालय को करना है।

सिर्फ मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी की एक हां की जरूरत है। इसके बाद आईआईटी की फीस 90 हजार से सीधे 3 लाख पहुंच जाएगी। आईआईटी काउंसिल की स्टैंडिंग कमेटी एससीआईसी ने सालाना फीस 3 गुना बढ़ाने की सिफारिश की है। आईआईटी बॉम्बे के डायरेक्टर देवांग खाखड़ की अगुआई में बनी सब-कमेटी की रिपोर्ट को एससीआईसी ने स्वीकार कर लिया है। जिसमें फीस बढाने की सिफारिश की गई थी।

ऐसे में अगर एससीआईसी के सुझावों को स्वीकार किया जाता है तो विदेशी छात्रों की फीस भी 4,000 डॉलर सालाना से बढ़ कर 10 हजार डॉलर हो जाएगी। सीधे 3 गुना फीस बढ़ाने से छात्र काफी नाराज हैं। मुश्किल उनके सामने ज्यादा खड़ी हो जाएगी जो गरीब परिवार से आते हैं।

कमेटी ने एक और अहम सिफारिश नए एन्ट्रेन्स एग्जाम को लेकर की है। कमेटी का 2017 में ज्वाइंट एंटरेंस एगजामिनेशन से पहले छात्रों के लिए नेशनल एपटिट्यूड टेस्ट आयोजित करने का सुझाव है। कमेटी का यह भी कहना है कि बिना गारंटी हर स्टूडेंट को को बिना ब्याज का लोन मुहैया कराया जाए।

आईआईटी में इस वक्त 80 हजार छात्र पढ़ाई कर रहे हैं। यहां सैलेरी और मेंटेनेंस में सलाना करीब 2500 करोड़ रुपए खर्च होता । छात्रों पर फीस बढ़ोतरी के असर को कॉम्प्रिहेंसिव स्टूडेंट लोन के जरिए कम किया जाएगा। प्रस्ताव के मुताबिक छात्रों को एडमिशन मिलते ही कॉम्प्रिहेंसिव लोन सिस्टम प्रभावी हो जाएगा। हालांकि इन प्रस्तावों पर आखिरी फैसला HRD मंत्रालय को लेना है। उनके फैसले का बेसब्री से इंतजार है।