मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र के बाद अब गुजरात में उठी किसानों की कर्ज माफी की मांग

दिल्ली ( 10 जून): देश में चल रहे किसान आंदोलन के बीच गुजरात मे भी किसानों की कर्ज माफी की मांग उठने लगी है। अगर कर्ज माफी नहीं कि तो अनशन करने की धमकी भी दी जाने लगी है।


गुजरात के किसान भी 30 हजार करोड़ के कर्जदार हैं और जमीन में पानी का लेवल काफी नीचे चला गया है। जमीन पर खराश यानी नमक का लेवल बढ़ता जा रहा है।

गुजरात के किसानों के समर्थन में राज्य में पिछले दो साल से राजनीतिक पटल पर उभरी क्षत्रीय ठाकोर सेना ने घोषणा की है कि उनकी मांग है कि गुजरात मे भी किसानों का कर्ज यूपी की तरह माफ किया जाए।


गुजरात में भी जिन किसानों के पास सात एकड़ जमीन है उनका एक लाख तक का कर्ज माफ किया जाए। सरकार ने ब्याज माफी की घोषणा की थी लेकिन उससे किसानों को कोई खास फर्क नहीं पड़ा है। किसानों को उनकी फसल का समर्थन मूल्य नहीं मिल रहा है जिनके पास 5 एकड़ से कम जमीन है उनका पूरा कर्ज माफ किया जाए।


इसके लिए क्षत्रीय ठाकोर सेना ने सरकार को विचार करने के लिए दस दिन का समय दिया है। उसने कहा है कि 20 तारीख से ये सेना राज्य में 150 तालुकाओं में किसानों के बीच जाएगी और आठ तारीख से तीन दिन के अनशन पर बैठेगी। इसके मुखिया अल्पेश ठाकोर इसकी अगुवाई करेंगे इस अनशन में दस हजार किसान एकत्रित होने का दावा किया जा रहा है।