WATCH: गंगा सफाई के लिए सरकारी सॉन्ग 'नमामि गंगे' कितना कारगर?

नई दिल्ली (11 जुलाई): जल संसाधन मंत्रालय की तरफ से गंगा पुनर्जीवन के लिए शुक्रवार को नमामि गंगे परियोजना के प्रचार के लिए थीम सॉन्ग रिलीज किया गया। इस सॉन्ग का वीडियो वायरल हो गया है।

'नमामि गंगे' सॉन्ग को तृशूर ब्रदर्स श्रीकृष्ण और रामकुमार मोहन ने कम्पोज़ किया है। ये दोनों कर्नाटक परंपरा के गायक हैं। इस थीम सॉन्ग के बोल संस्कृत और हिंदी दोनो भाषाओं में है। 

वीडियो में गंगा नदी के उद्गम से लेकर कई स्थानों पर मौजूद सौन्दर्य को दिखाया गया है। इन स्थलों में संगम, वाराणसी और हरिद्वार शामिल हैं। इसके अलावा लोग इस पवित्र नदी से किस तरह जुड़े हुए हैं, इसके सांस्कृतिक पक्ष को भी दिखाया गया है। लेकिन सवाल अभी भी है कि इस तरह की पहलों का असर जमीनी स्तर पर कितना दिखाई दे रहा है? क्या केवल गाने रिलीज कर जमीनी स्तर पर गंगा की वर्तमान दुर्दशा में कोई सुधार आ सका है?

गौरतलब है, ये एंथम सॉन्ग सरकार की इस पहल के लिए जागरुकता के लिए जारी किया गया है। साल 2015 में केंद्र सरकार ने 20,000 करोड़ रुपए का फंड इस अभियान के तहत जारी किया था। गंगा को पांच सालों में साफ करने की योजना है। इसके लिए दिल्ली, उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड में 100 प्रोजेक्ट्स कतार में है।

देखें वीडियो: [embed]https://www.youtube.com/watch?v=G8v1zHd4ZOk[/embed]