RSS प्रमुख मोहन भागवत बोले- आर्थिक नीति ऐसी हो जिससे हर वर्ग का कल्याण हो

नई दिल्ली(30 सितंबर): राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार द्वारा उठाए गए "बोल्ड और साहसी" आर्थिक फैसले का बचाव किया, लेकिन उन्होंने "एकीकृत और समग्र नीति" को लाने को कहा है जिसका लाभ हर किसी को मिले। रेशमीबाग में दशहरा के मौके पर  सभा को संबोधित करते हुए भागवत ने आर्थिक सलाहकारों से आग्रह किया कि ने "उसी पुरानी आर्थिक शक्ति से बाहर निकल" और उन अनुभवों को ध्यान में रखें जो उन्होंने "हमारे देश की जमीनी वास्तविकता" है।

भागवत ने कहा कि यह समझ जा सकता है कि अधिकारी "वैश्विक नीतियों और मानकों के साथ आगे बढ़ेंगे, भले ही वे दोषपूर्ण, कृत्रिम, समृद्धि का भ्रम पैदा करें, नैतिकता का खतरा, पर्यावरण, रोजगार और आत्मनिर्भरता" हो। " हालांकि सभी नीतियों और मानकों को पुनर्विचार की आवश्यकता है। बता दें कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के लिए विजयादशमी उत्सव समारोह महत्वपूर्ण माना जाता है और इसकी 1925 में स्थापना के बाद से ही स्वयंसेवक इस अवसर पर जुटते है।