चीनी मोबाइल कंपनियों पर निजी जानकारी चुराए जाने का शक, सरकार ने भेजा नोटिस

नई दिल्ली ( 17 अगस्त ): केंद्र सरकार ने स्मार्टफोन बनाने वाली चीनी कंपनियों को नोटिस जारी किया है। इसमें वीवो, ओप्पो, शियोमी और जियोनी जैसी कंपनियों के नाम शामिल हैं। सरकार को शक है कि ये कंपनियां अपने स्मार्टफोन्स के जरिए भारत के ग्राहकों की पर्सनल जानकारियां चुरा रही हैं। सरकार के इस कदम को भारत और चीन की सीमा पर डोकलाम में जारी विवाद से जोड़कर भी देखा जा रहा है।

स्मार्टफोन बनाने वाली ज्यादातर कंपनियां चीन की हैं और सरकार को डर है कि ये ग्राहकों की जानकारी हैक कर सकती हैं। भारत में करोड़ों लोग स्मार्टफोन का इस्तेमाल करते हैं। सरकार को आशंका है कि स्मार्टफोन की कॉन्टैक्ट लिस्ट और मेसेजेस में मौजूद पर्सनल जानकारियां चुराई जा रही हैं।

हालांकि ऐसा नहीं है कि सिर्फ चीन की कंपनियों को ही यह नोटिस जारी किया गया है। स्मार्टफोन बनाने वाली दूसरी कंपनियों जैसे ऐपल, सैमसंग और भारत की ही कंपनी माइक्रोमैक्स भी उन 21 कंपनियों में शामिल हैं, जिन्हें इलेक्ट्रॉनिक्स और इन्फर्मेशन टेक्नोलॉजी मंत्रालय की ओर से नोटिस जारी किया गया है।

एक अंग्रेजी अखबार के मुताबिक, 'सुरक्षा मानकों का पालन करने के लिए कंपनियों को 28 अगस्त तक का समय दिया गया है। हो सकता है कि सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए ऑडिट भी करवाएं कि वाकई इसका पालन किया जा रहा है या नहीं।' सूत्र ने बताया कि अगर कोई कंपनी नियमों का उल्लंघन करती पाई गई तो उस पर कार्रवाई करते हुए जुर्माना लगाया जाएगा।