वित्त मंत्री जेटली का ऐलान- जल्द बैंकों को मिलेंगे 83,000 करोड़ रुपये


न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (20 दिसंबर): चालू वित्त वर्ष के बचे हुए करीब साढ़े तीन महीनों के दौरान केंद्र सरकार कमजोर सरकारी बैंकों में 83,000 करोड़ रुपये की पूंजी डालेगी। बैंकों को दी जाने वाली मदद की घोषणा करते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि इससे सरकारी बैंकों के कर्ज देने की क्षमता में इजाफा होगा और उन्हें आरबीआई के प्रॉम्प्ट करेक्टिव एक्शन (पीसीए) से बाहर आने में मदद मिलेगी।




इस मदद के बाद इस वित्त वर्ष में सरकारी बैंकों को दी जाने वाली पूंजी 65,000 करोड़ रुपये से बढ़कर 1.06 लाख करोड़ हो जाएगी। सरकार ने गुरुवार को संसद से 85,948 करोड़ रुपये के अतिरिक्त खर्च की मंजूरी मांगी है, जिसमें चालू वित्त वर्ष के दौरान कमजोर सरकारी बैंकों के पूंजीकरण के लिए दी जाने वाली 41,000 करोड़ रुपये की रकम शामिल है।




जेटली ने कहा कि बैंकों के एनपीए (नॉन परफॉर्मिंग एसेट्स) को पहचानने का काम पूरा हो चुका है और इसमें कमी आनी शुरू हो गई है। बैंकों के कमजोर बैलेंस शीट और पर्याप्त पूंजी नहीं होने की वजह से भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने 23 सरकारी बैंकों में से 11 को पीसीए में डाल रखा है, जिसकी वजह से उनके नए ब्रांच खोलने और कर्ज देने पर रोक लगी हुई है। पीसीए को लेकर सरकार और आरबीआई के बीच तनातनी रही है।