केंद्र सरकार का बड़ा फैसला, अब घर नहीं जाएगी आतंकियों की लाश

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (23 जून): केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर के आंतकियों के खिलाफ बड़ा फैसला किया है। केंद्र सरकार ने ऐलान किया है कि सुरक्षाकर्मियों के साथ एनकाउंटर में मारे गए आतंकियों की लाश अब उनके परिजनों को नहीं सौंपे जाएंगे। सुरक्षा एजेंसियों ने आतंकियों को मार गिराने के बाद खुद इन्हें दफनाने का फैसला किया है। दरअसल सरकार ने घाटी में सक्रिय आतंकी तंजीमों में स्थानीय युवाओं को शामिल होने से रोकने के लिए मुठभेड़ में मारे जाने वाले आतंकियों के शव को खुद दफनाने का फैसला किया है। केंद्र सरकार का मानना है कि इससे आतंकियों के स्थानीय भर्ती अभियान में इससे कमी आएगी।जानकारी के मुताबिक कश्मीर घाटी में लश्कर, जैश और हिज्बुल के टॉप कमांडर के मारे जाने पर उनके शव को उनके परिवार को नहीं सौपा जाएगा। बल्कि ऑपरेशन के दौरान ढेर किये जाने के बाद आतंकियों को अनजान जगह पर दफन करने पर विचार हो रहा है। दरअसल घाटी में आतंकी के जनाजे में बड़ी संख्या में स्थानीय युवा शामिल होते है। जहां पर हथियारबंद आतंकी कमांडर भड़काऊ तकरीरें करते है और युवाओं को जेहाद के नाम पर भड़काए जाते हैं।आपको बता दें कि खुफिया एजेंसी ने सरकार को एक रिपोर्ट दी है कश्मीर घाटी में आतंकी जनाजों में आतंकी भर्ती का अभियान धड़ल्ले से चलता है, जिसमें, लश्कर ए तैयबा, जैश ए मोहम्मद और हिजबुल मुजाहिद्दीन है। सुरक्षा एजेंसियों के सूत्रों के मुताबिक सरकार ने फैसला किया है कि आतंकियों के खिलाफ सुरक्षा बलों के ऑपेरशन में अड़ंगा डालने वाले पथ्थरबाजो से अब कोई रियासत नहीं होगी।