राजस्थान: सरकारी दफ्तर के बाद अब हॉस्टल्स में हुआ राष्ट्रगान अनिवार्य

नई दिल्ली ( 28 नवंबर ): राजस्थान सरकार ने जयपुर में सरकारी दफ्तर(नगर निगम) में राष्ट्रगान लागू किए जाने के बाद अब स्कूल के हॉस्टलों में राष्ट्रगान को अनिवार्य कर दिया है। छात्रों में देशभक्ति की भावना को 'जगाने' के लिए राजस्थान के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग ने ओबीसी, एससी तथा एसटी के सभी 789 हॉस्टलों को राष्ट्रगान गाने का निर्देश जारी किया है। निर्देश के अनुसार सभी हॉस्टलों में सुबह 7 बजे राष्ट्रगान अनिवार्य है। 

सरकार के द्वारा सोमवार को जारी एक बयान के मुताबिक सभी रेज़िडेंशि स्कूलों में राष्ट्रगान + अनिवार्य होगा। यह परम्परा हॉस्टलों में भी फॉलो की जाएगी। विभाग द्वारा जारी यह निर्देश रविवार से ही प्रभावी हो गया। विभाग के प्रमुख सचिव समित समित शर्मा ने बताया कि राष्ट्रगान गाने की यह परंपरा हॉस्टलों की दिनचर्या में पहले से शामिल है। 

उन्होंने कहा, 'हॉस्टलों में रहने वाले बच्चे हर सुबह प्रार्थना के लिए तो एकत्र होते ही हैं। स्टाफ की कमी की वजह से राष्ट्रगान गाने के निर्देश का पालन नहीं हो पा रहा था। यह निर्देश इसलिए जारी किया गया है कि राष्ट्रगान को नियमित तौर पर गाया जाए।' विभाग के तत्वाधान में करीब 800 हॉस्टल हैं, जिनमें 40 हजार स्टूडेंट्स पढ़ते हैं।