सरकार ने ओलंपिक में बेहतर प्रदर्शन के लिए बनाई टास्क फोर्स

नई दिल्ली ( 30 जनवरी ): मोदी सरकार अगले तीन ओलंपिक खेलों को ध्यान में रखते हुए कारगर ऐक्शन प्लान बना रही है। इसके लिए खेल मंत्रालय ने एक खास टास्क फोर्स कमेटी का गठन किया है। खेल मंत्रालय ने इस टास्क फोर्स कमेटी का यह प्रस्ताव प्रधानमंत्री को सौंपा था, जिसे प्रधानमंत्री ने स्वीकार कर लिया है।

केंद्रीय युवा मामले एवं खेल राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) विजय गोयल ने सोमवार को बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने टास्क फोर्स कमिटी के इस प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया है। यह कमेटी अगले तीन ओलंपिक खेलों 2020, 2024 और 2028 को ध्यान में रखकर भारत द्वारा खेलों में बेहतर प्रदर्शन के लिए ऐक्शन प्लान तैयार करेगी।

इस टास्क फोर्स में पूर्व ओलंपियन और कोच पुलेला गोपीचंद, ओलंपिक में स्वर्ण पदक विजेता अभिनव बिंद्रा, पत्रकार जेश कालरा, स्कूल स्पोर्ट्स प्रमोशन फाउंडेशन के ओम पाठक, ओलंपिक गोल्ड क्विस्ट के सीईओ विरेने रस्कीना, हॉकी कोच एस बलदेव सिंह, मानव रचना इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी के जीएल खन्ना और साई गुजरात के महानिदेशक संदीप प्रधान को इस टास्क फोर्स में शामिल किया गया है।

विजय गोयल ने बताया कि यह कमेटी जरूरत पड़ने पर दूसरे खेल विशेषज्ञों को भी मदद के लिए बुला सकती है। इस टास्क फोर्स को अगले तीन ओलंपिक 2020, 2024 और 2028 में भारतीय खिलाड़ियों के दमदार प्रदर्शन के लिए शॉर्ट टर्म, मीडियम टर्म और लॉन्ग टर्म ऐक्शन प्लान बनाने के सुझाव देने हैं।

इसके अलावा 2020 ओलिंपिक को ध्यान में रखकर ऐसे कोच और सपोर्ट स्टाफ चयन के लिए उपयोगी मानदंड सुझाने के साथ-साथ 2024 और 2028 ओलिंपिक के लिए सही प्रतिभा पहचान के उपाय सुझाना है। इस ओलिंपिक कमिटी को इस तरह के ओलिंपिक खेलों से जुड़े 9 विशेष बिंदुओं पर अपने सुझाव रखने हैं। इस कमेटी का कार्यकाल तीन महीने या जब तक यह अपनी रिपोर्ट जमा कर दे तब तक होगा।