भारतीय नौसेना को मिलेंगे 111 घातक हेलिकॉप्टर, डरे चीन और पाक

नई दिल्ली ( 31 अक्टूबर ): हिंद महासागर में चीन की लगातार अपनी गतिविधिया बढ़ा रहा है। इस बीच भारत ने भी अपनी नौसेना शक्ति बढ़ाने की दिशा में कदम बढ़ा दिया है। रक्षा मंत्रालय ने एक बड़ा कदम उठाते हुए नौसेना के लिए 111 यूटिलिटी हेलीकाप्टर खरीद को मंजूरी दे दी है। इन हेलीकाप्टरों की खरीद पर 21,738 करोड़ रुपये का खर्च आएगा। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में हुई रक्षा खरीद परिषद (डीएसी) की बैठक में लंबे समय से लंबित प्रस्ताव को मंजूरी दी गई। 

इससे न सिर्फ नौसेना में हेलिकॉप्टर की कमी दूर होगी, बल्कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मेक इन इंडिया प्रोजेक्ट को बढ़ावा मिलेगा। खबरों के मुताबिक 16 हेलीकाप्टर फ्लाई अवे शर्त पर खरीदे जाएंगे। शेष 95 हेलीकाप्टर भारत में तैयार किए जाएंगे। हेलीकाप्टरों की खरीद रणनीतिक साझीदारी मॉडल के तहत की जाएगी। इस परियोजना के लिए सरकार अब विदेशी हेलीकाप्टर निर्माता और भारतीय रक्षा फर्म की पहचान करने की प्रक्रिया शुरू करेगी।

मई में सरकार ने रणनीतिक साझीदारी मॉडल की शुरुआत की। इसके तहत चुने गए निजी फर्म भारत में पनडुब्बी और लड़ाकू विमान जैसे सैन्य प्लेटफार्म का निर्माण कर सकेंगे। निर्माण के काम में वे विदेशी उद्यम के साझीदार होंगे। हेलीकाप्टरों की खरीद नए मॉडल के तहत पहली बड़ी खरीद परियोजना होगी।

इन हेलिकॉप्टर की खरीद को स्ट्रैटेजिक पार्टनरशिप मॉडल के तहत स्वीकृति दी गई है. नौसेना के लिए इन हेलिकॉप्टर को मेक इन इंडिया के तहत बनाया जाएगा। मंगलवार को रक्षामंत्री की अध्यक्षता में हुई डिफेंस एक्यूजिशन काउंसिट (DAC) की बैठक में यह फैसला लिया गया है।