अब पाक और चीन सीमा के शहीदों के परिवारों को मिलेंगी एक समान सुविधाएं

नई दिल्ली ( 21 दिसंबर ): सैनिक चीन की सीमा पर शहीद हो या फिर पाकिस्तान की सीमा पर अब बराबर सुविधाएं मिलेंगी। रक्षा मंत्रालय ने आखिरकार सीमा पर आॅपरेशन के दौरान शहीद सैनिकों के परिवारों के लिए लिबरलाइज्ड फैमिली पेंशन को मंजूरी दे दी है।  

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने उन सैनिकों को भी लिबरलाइज्ड फैमिली पेंशन मंजूर करने का फैसला किया है, जो भारत-चीन सीमा के लाइन ऑफ एक्चुएल कंट्रोल (एलएसी) पर काम करते हैं। यह पेंशन फिलहाल उन सैनिकों को मिलती रही है, जो पाकिस्तानी से लगी अंतरराष्ट्रीय सीमा या लाइन ऑफ कंट्रोल पर काम करते हैं।

ऑपरेशनल एरिया में किसी हमले का जवाब देते वक्त, दुश्मन के खिलाफ ऐक्शन लेते वक्त, प्राकृतिक आपदाओं या नदी में डूबने के कारण आकस्मिक मौत या दुर्घटना होने पर लिबरलाइज्ड फैमिली पेंशन मिलती है। इसमें अंतिम वेतन का 100 फीसदी हिस्सा दिया जाता है, जबकि सामान्य पेंशन में आखिरी वेतन का 30 फीसदी हिस्सा ही दिया जाता है। 

सेना में दशकों से पाक और चीन मोर्चे की विसंगति को खत्म किए जाने की मांग उठती रही है, लेकिन चीन के मोर्चे पर पाक जैसी युद्ध की स्थिति नहीं मानी जाती रही।