काला धन रखने वालों को एक और मौका- 'जुर्माना दो, माफ़ी पाओ'

नई दिल्ली (29 फरवरी) : अघोषित आय रखने वाले अगर 1 जून से 30 सितंबर के बीच अपनी इस तरह की आय की घोषणा करते हैं तो उन्हें 45 फीसदी टैक्स (सरचार्ज पेनल्टी समेत) लगाकर माफ़ कर दिया जाएगा।

वित्त मंत्री अरुण जेटली की इस घोषणा को देश में काले धन के कुबेरों का खजाना बाहर निकलवाने के लिए एक और प्रयास के तौर पर देखा जा रहा है।

जेटली ने कहा कि मैं घरेलू टैक्स पेअर्स को अपनी अघोषित आय चाहे वो किसी भी रूप में घोषित करने के लिए एक और मौका देना चाहता हूं। इस तरह की अघोषित आय पर 30 फीसदी टैक्स, 7.5 फीसदी सरचार्ज और 7.5 फीसदी पेनल्टी लगेगी।  

बता दें कि जेटली की ओर से काला धन निकलवाले की पिछली स्कीम सुपर फ्लॉप रही और 90 दिन में सामने आए महज 3770 करोड़ रुपये। आरोप लगा था कि जेटली के मंत्रालय ने योजना बनाने से पहले पर्याप्त होमवर्क नहीं किया और सरकार की किरकिरी कराई।

इस तरह की स्कीम से कहीं बेहतर नतीजे 1997 में गुजराल सरकार में वित्त मंत्री पी चिदंबरम की वीडीआईएस स्कीम के दौरान रहे थे। तब ना सिर्फ 33 हजार 697 करोड़ रुपये सामने आए बल्कि सरकार को उस पर टैक्स से मिले तकरीबन 10 हजार करोड़।

काली कमाई को सफेद करने का मौका देने वाली ये स्कीम एक जून से 30 सितंबर 2016 तक चलेगी।