जल्द सिंगल महिलाओं को राहत देने वाली है सरकार!

नई दिल्ली(12 दिसंबर): शादीशुदा महिलाओं के साथ-साथ कुंवारी व सिंगल महिलाएं भी बहुत जल्द अनचाहे गर्भ को टर्मिनेट यानी अबॉर्शन करवा सकेंगी। स्वास्थ्य मंत्रालय ऐसा कदम उठाने जा रहा है, जिसके तहत 'गर्भ निरोधक गोलियों के असफल रहने' व 'अनचाहे गर्भ' जैसे विकल्पों को अबॉर्शन के लिए कानूनी मान्यता मिल जाएगी।

- वर्तमान में कानून सिर्फ उन्हीं महिलाओं को अनचाहे गर्भ को टर्मिनेट करवाने की अनुमति देता है, जो शादीशुदा हैं। यह स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी ऐक्ट में संशोधन के लिए की जा रही सिफारिशों का परिणाम है।

- वर्तमान में अबॉर्शन के लिए एक डॉक्टर की आवश्यकता पड़ती है, जो बताता है कि क्यों अबॉर्शन जरूरी है। देश में सेक्शुअली ऐक्टिव सिंगल व अनमैरिड विमिन को देखते हुए सरकार अबॉर्शन के कानूनी दायरे को बढ़ाना चाहती है।

- एक्सपर्ट्स का कहना है कि यह एक प्रगतिशील कदम होगा व महिलाओं को अबॉर्शन के सुरक्षित व कानूनी विकल्प मुहैया करवाएगा।

- स्वास्थ्य मंत्रालय की सिफारिश में कहा गया है कि सामान्य अबॉर्शन की ट्रेनिंग होम्यॉपैथ्स, नर्सों को भी दी जानी चाहिए। एक अधिकारी ने बताया कि एक बार यह अमेंडमेंट बिल संसद से पास हो गया, मंत्रालय इससे जुड़े नियमों को सिलसिलेवार तरीके से सामने रखेगा।

- 'आईपीएएस' एनजीओ के एग्जिक्युटिव डायरेक्टर विनोज कहते हैं, 'यह संशोधन महिलाओं को सुरक्षित अबॉर्शन जैसी सहूलियतें देगा। हमें उम्मीद है कि जल्द से जल्द इस बिल को संसद से पास करवा लिया जाएगा।'