2 करोड़ टर्नओवर वाले सराफा कारोबारी पर नहीं लगेगा मनी लॉन्ड्रिंग कानून

नई दिल्ली (6 अक्टूबर): मोदी सरकार ने त्योहारों से पहले ज्वैलर्स को एक बड़ी राहत दी है। सरकार ने 23 अगस्त को जारी किया गया नोटिफिकेशन वापस लेते हुए 2 करोड़ के टर्नओवर वाले सराफा कारोबारियों को मनी लॉन्ड्रिंग कानून (pmla 2002) एक्ट से बाहर किया कर दिया है। इसी के साथ 1.5 करोड़ टर्न ओवर वाले सराफा कारोबारियों को तिमाही रिटर्न दाखिल करना होगा।

ये था नियम:
पहले ऐसे सराफा कारोबारियों के लिए ऑटो मैकेनिज्म बनाया गया था। जैसे ही सामान खरीदा जाता था तो ऑटो सिस्टम में ट्रेल बन जाती है जाएगी, और ट्रेल तबतक नहीं खत्म होगी जबतक उसको टैक्स चुका कर उपभोक्ता को नहीं ट्रांसफर किया जाएगा।

अगर आप व्यापारी हैं तो जीएसटी लागू होने के बाद जानकारी छुपाना या टैक्स चोरी करना बहुत भारी पड़ सकता है। गलत जानकारी दी या उससे छेड़छाड़ की तो पकड़े जाने पर 6 महीने से 5 साल तक की सजा। 1 से 2 करोड़ तक टैक्स चोरी की तो 1 से 5 साल तक की सजा। 2 से 5 करोड़ तक टैक्स चोरी की तो 3 से 5 साल तक की सजा। अगर 5 करोड़ से ज्यादा के टैक्स की चोरी की तो 5 साल तक की सजा का प्रावधान था।