देसी नस्ल की एक गाय से एक महीने मेंं 1 लाख का सोना, दूध अलग- जानिए कैसे

नई दिल्ली (28 जून):  जूनागढ़ एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों के शोध की सच्चाई आम लोगों तक पहुंच गयी तो कम से कम भारत से बीफ का झमेला खत्म हो जाएगा। इन वैज्ञानिकों की माने तो हिंदुस्तानी नस्ल की गाय किसी भी शख्स को रातों-रात लखपति बना सकती है। वैज्ञानिकों ने कहा कि गाय के एक लीटर मूत्र में 10 मिलीग्राम सोना होता है। इसका अर्थ यह भी है कि एक स्वस्थय गाय के मूत्र से एक दिन में कम से कम 3000 हजार रुपये कीमत का एक ग्राम सोना और एक महीने में लगभग एक लाख रुपये की कीमत का तीन तोला सोना निकाला जा सकता है।अभी तक तो हम सिर्फ सुनते आये थे कि भारतीय शास्त्र और ऋषि-मुनियों का कहना है कि गौमूत्र में सोना होता है। गौमूत्र में औषधीय तत्व होते हैं। अब इन्हीं बातों को वैज्ञानिकों ने भी साबित कर दिया है।

जूनागढ़ एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने चार साल तक लागातार किये विभिन्न परीक्षणों के बाद कहा है कि गीर नस्ल की भारतीय गाय के एक लीटर मूत्र में 10 एमजी तक सोना होता है। इसके आलावा 388 ऐसे औषधीय तत्व होते हैं जिनसे गंभीर रोगों का उपचार संभव है। इसीलिए कहा गया है कि गाय का दूध पीने से स्वास्थय अच्छा रहता है। दीमाग तेज होता है, बीमारियां नहीं होती है। गीर के गाय में सोना पाये जाने का शोध डॉक्टर बीए गोलकिया के नेतृ्त्व में किया गया है। यह परीक्षण चार सौ गीर गायों पर किया गया और सभी के परिणाम एक जैसे निकले। अब ये वैज्ञानिक भारतीय नस्ल की अन्य गायों पर भी परीक्षण कर रहे हैं। उनका मकसद यह जानना है कि क्या  भारतीय नस्ल की सभी गायों के मूत्र  में सोना पाया जाता है।