जिनेवा ग्लोबलमीट में अलग-थलग पड़ा पाकिस्तान, भारत ने कहा- पीओके को खाली करो

नई दिल्ली (26 अक्टूबर): भारत ने पाकिस्तान से दो टूक शब्दों में कहा है कि वह कश्मीर के एक भाग पर अपना अवैध कब्जा खाली करे और मानवाधिकारों के उल्लंघन के नाम पर उसके क्षेत्र में दखल देना बंद करें। भारत के संसद सदस्य आरके सिंह ने जेनेवा अन्तर संसदीय यूनियन की 135 वीं बैठक में कहा कि हम पाकिस्तान से यह साफ शब्दों में कहना चाहते हैं कि जम्मू कश्मीर का पूरा क्षेत्र भारत का अविभाज्य अंग है। यहां के लोग केन्द्र तथा राज्य दोनों ही स्तरों की लोकतांत्रिक प्रक्रिया में भाग ले रहे हैं।  सिंह ने इससे पहले पाकिस्तान द्वारा जम्मू कश्मीर में मानवाधिकारों के उल्लंघन का सवाल उठाये जाने पर उसका जवाब देते हुए कहा कि कश्मीर की वर्तमान स्थिति के लिए सीमा पार से पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद जिम्मेदार है। 

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद का केन्द्र तथा उसकी मातृभमि है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर घोषित आतंकवादी गुट वहां खुले आम सक्रिय हैं। पाकिस्तान आतंकवाद का सामना करने के लिए मिल रहे अरबों डालर की रकम का उपयोग अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आतंकवाद को फैलाने के लिये कर रहा है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान भारत के विरूद्ध मानवाधिकार के उल्लंघन का आरोप तो लगा रहा है लेकिन उसके यहां स्वयं बलूचिस्तान उसके कब्जे वाले कश्मीर तथा खैबर पख्तूनवा में मानवाधिकारों का खुला उल्लंघन हो रहा है जिससे वह आंखे बंद किये हुये है। वहां के लोग न केवल आतंकवाद तथा जातीय संघर्ष बल्कि आर्थिक शोषण के भी शिकार हैं।