'अगर गर्लफ्रेंड में हैं ये चार खूबियां तो जीवन हो जायेगा खुशहाल'

नई दिल्ली (30 जनवरी): भारतीय धर्मशास्त्रों ने एक आदर्श गर्लफ्रेंड में कम से कम चार गुणों को होना अनिवार्य बताया है। शास्त्रों में कहा गया है कि मीठा बोल और प्रेम ही सुखद जीवन की पहली पहचान है। आइए देखते हैं वो चार गुण कौन से हैं जो हर आदर्श गर्लफ्रेंड में होने चाहिएः

- जिस व्यक्ति की गर्लफ्रेंडगृहकार्यों में कुशल है यानी घर की सफाई, भोजन बनाने, घर की सजावट, निर्धारित राशि से घर का कुशल संचालन, बच्चों की जिम्मेदारी, अतिथियों की आवभगत आदि में निपुण है तो वह व्यक्ति अत्यंत भाग्यशाली होता है।

- जिस व्यक्ति की गर्लफ्रेंड प्रेमपूर्वक बोलने वाली यानी घर के सदस्यों के साथ यथायोग्य वाणी का आदर और प्रेम से व्यवहार करने वाली हो, निश्चित रूप से वह पुरुष भाग्यवान होगा। शास्त्रों में मीठा बोलने को भी महान गुण माना गया है। अगर गृहिणी अच्छे स्वभाव के साथ ही अच्छी वाणी का भी उपयोग करे तो ऐसे घर में खुशियों का वातावरण होता है। जहां लोग एक-दूसरे के साथ वार्तालाप में कटु शब्दों का उपयोग करते हैं, वह घर समृद्धि के बावजूद नरक के समान होता है।

- महिला पतिपरायणा यानी अपने पति को ही सर्वस्व मानने वाली, उसकी सहमति से कार्य करने वाली हो, उस पुरुष को भाग्यवान समझना चाहिए। पति परायणा महिला अपने पति की आज्ञा का उल्लंघन नहीं करती और न ही ऐसा कोई कार्य करती है जिससे पति को दुख हो। इसके साथ ही पति का भी यह कर्तव्य होता है कि वह ऐसा कोई कार्य न करे जो पत्नी के सम्मान को ठेस पहुंचाए और उसे दुख दे। दोनों को एक-दूसरे की प्रगति व प्रसन्नता के लिए कार्य करना चाहिए।

- जो गर्लफ्रेंड, पत्नी जीवन में पति एवं उसके परिवार के हित के लिए कार्य करे, जीवन में शुभ कर्मों को स्थान दे, अपने पत्नीधर्म का पालन करे, तो उसका पति खुद को देवों के राजा इंद्र के समान भाग्यशाली समझे। निश्चित रूप से पत्नी के ये गुण परिवार को सुखी बना सकते हैं।