एग्जाम देने आईं छात्रों के उतरवाए गए अंडर-गारमेंट


कन्नूर(8 मई): सरकारी एवं निजी मेडिकल कालेजों में प्रवेश के लिए रविवार को हुई राष्ट्रीय पात्रता प्रवेश परीक्षा (एनईईटी) में अनुचित साधनों का प्रयोग रोकने के नाम पर लागू किए गए बेहद सख्त ड्रेस कोड के कारण ऐसी कार्रवाई हुई जिन्होंने कई छात्राओं को परेशान और स्तब्ध कर दिया। यहां एक छात्रा के परीक्षा में बैठने से पहले उसके अंडर-गारमेंट उतरवा लिए गए।


- क्षुब्ध दिख रही छात्रा ने परीक्षा के बाद बताया कि परीक्षा केंद्र अधिकारियों ने उससे अंडर-गारमेंट उतारने को कहा। छात्रा की मां ने कहा, 'मेरी बेटी केंद्र में गई। थोड़ी ही देर में वह लौटकर आई और उसने मुझे अपना अंडर-गारमेंट सौंपा।' जींस पहने हुए एक अन्य छात्रा से जेब और मेटल के बटन हटाने को कहा गया। इस छात्रा के पिता ने बताया, 'उसने (बेटी ने) जींस पहन रखी थी। इसमें जेबें और मेटल बटन थे। इन्हें निकालने के लिए कहा गया। मैं परीक्षा केंद्र से 3 किलोमीटर दूर एक दुकान पर भागा-भागा गया और उसके लिए नए कपड़े खरीदकर वापस आया।'


- हालात ऐसे थे कि परीक्षा केंद्र के आसपास के इलाकों में लोगों ने परीक्षार्थियों को 'उचित' कपड़े पहनने के लिए दिए ताकि बच्चियों की परीक्षा न छूटे। एक अभिभवाक ने कहा, 'मैं एक ऐसे परिवार को जानता हूं जिसने परीक्षार्थियों को पहनने के लिए 6 टॉप दिए। हालात तब और खराब हो गए जब अधिकारियों ने पूरी आस्तीन वाला टॉप पहनकर भी बच्चियों को परीक्षा में बैठने नहीं दिया। जिन्होंने ऐसी पूरी आस्तीन वाले टॉप पहने हुए थे, उन्होंने जल्दी-जल्दी काटकर आस्तीन को आधी बांह का किया।'