छात्रा ने पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी, स्कूल स्टाफ पर लगाया गैंगरेप का आरोप

नई दिल्ली(24 सितंबर): प्रधानमंत्री को लिखी एक गुमनाम चिट्ठी ने डेरा प्रमुख राम रहीम को 20 साल के लिए सलाखों पीछे डलवा दिया। ऐसा ही एक और मामला  सामने आया है। इस बार चिट्ठी एक स्कूल की छात्रा ने  स्कूल स्टाफ के खिलाफ लिखी है। हालांकि अभी तक पुलिस में यह शिकायत दर्ज नहीं हुई है। 

- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम लिखी गई इस चिट्ठी में छात्रा ने अपनी पहचान उजागर नहीं की है, लेकिन स्कूल और अपने साथ ज्यादती करने वाले स्कूल के नॉन टीचिंग स्टाफ के दो लोगों के नाम जरूर लिख डाले।

- छात्रा ने खुद को हरियाणा के गोहाना के जींद रोड के एक निजी स्कूल की छात्रा बताते हुए लिखा है कि इन दोनों आरोपियों ने उसे पोर्न वीडियो दिखाकर उकसाया और फिर उसके साथ रेप किया।

- अब उसे लागातर टाॅर्चर किया जा रहा है। कभी स्कूल के पीआरओ आॅफिस में तो कभी दूसरे स्थान पर उससे छेड़छाड़ी का जा रही है। एक बार तो आरोपी उसे शाम को गोहाना के एक होटल में भी ले गए। हद तब हो गई, जब सुखबीर व कर्मवीर ने उससे अपनी सहेली को साथ लाने को कहा।

- चिट्ठी में लिखा है कि वह आत्महत्या करना चाहती थी, लेकिन उसकी सहेली ने उसे हिम्मत दी। फिर क्लास इंचार्ज को बताया तो जवाब मिला कि प्रिंसिपल से वो बात करेंगी, लेकिन बाद में कोई जवाब नहीं दिया। 

- आरोप यह भी है कि ज्यादा पूछने पर इंचार्ज ने कहा कि प्रिंसिपल बोले, 'यह चलता है।' इसके बाद उसने डायरेक्टर से बात भी करने की सोची पर लगा कि कोई फायदा नहीं है। इसके बाद आपको (पीएम) को पत्र लिखा है। 

- छात्रा ने पीएम नरेंद्र मोदी, सीएम मनोहर लाल और एसपी सोनीपत को लिखी चिट्‌ठी में कहा है कि ग्रामीण एरिया होने के कारण वह घर पर यह सब नहीं बता सकती। यदि वह घर पर बताएगी तो भाई उसे मरवा देगा। उसे मरना वैसे भी है पर इन आरोपियों को सजा दिलाकर। साथ ही स्कूल डायरेक्टर के लिए लिखा है कि मैडम यदि आपको ये पत्र मिले तो दोनों के फोन लेकर पुलिस को देना। यदि कोई एक्शन नहीं हुआ तो वह स्कूल में ही जहर खा लेगी, जिसकी जिम्मेदारी डायरेक्टर की होगी।   - पुलिस को पत्र मिलने के बाद एसआईटी गोहाना प्रभारी राजीव कुमार के नेतृत्व में एक टीम जांच करने के लिए स्कूल में पहुंची। शनिवार को स्कूल में शहीदी दिवस का अवकाश होने के कारण स्टाफ स्कूल में नहीं था। टीम ने स्कूल प्रशासन से संपर्क किया, जिसके बाद स्कूल के प्रिंसिपल पहुंचे। पुलिस आरोपियों को पूछताछ के लिए अपने साथ ले गई और उनके फोन कब्जे में ले लिए हैं। हालांकि अभी कोई पुलिस अधिकारी इसकी पुष्टि नहीं कर रहा है।