लखनऊ में युवती की दिनदहाड़े गोली मार कर हत्या

लखनऊ(12 नवंबर): लखनऊ के थाना पीजीआई इलाके में प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रही एक युवती की ताबड़तोड़ गोली मारकर हत्या कर दी गई। युवती की हत्या कही और नहीं बल्कि उसी के घर में हुई है। दिनदहाड़े हुई सनसनीखेज वारदात से इलाके में सनसनी फैली हुई है। युवती के शरीर में कुल पांच गोलियां दागी गई थी लेकिन इसके बावजूद पीजीआई पुलिस मामले में लीपापोती करती रही। 

युवती के पिता राकेश गुप्ता नियुक्ति विभाग से वीआरएस प्राप्त है और उनपर विभागीय भ्रस्टाचार की जाँच भी चल रही है, लेकिन जिस हालात में राकेश की लाइसेंसी पिस्टल से युवती की मौत हुई है उससे तो यही साबित होता है कि होनहार मार्टिया का हत्यारा कोई और नहीं बल्कि उसके अपने ही है। परिजनों द्वारा हत्या को आत्महत्या का रूप देना मामले को और भी पुख्ता कर रहा है कि हत्यारा कोई और नहीं बल्कि अपना ही है।

परिवार के लोगों ने किसी भी तरह का आरोप नहीं लगाया है। फिलहाल पोस्टमार्टम रिपोर्ट की जांच के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। उधर, इलाकाई लोगों ने परिवारीजनों पर ही हत्या का आरोप लगाते हुए ऑनर किलिंग की आशंका जताई है।

हैरान कर देने वाली बात यह है कि मार्टिया की घर के अंदर ताबड़तोड़ गोली मारकर हत्या कर दी जाती है और घर वालो को इसकी भनक तक नहीं लगी। परिजनों के मुताबिक प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करने वाली मार्टिया देर तक जब कमरे से बाहर नहीं निकली तो परिजन उसके कमरे की ओर गए तो वहा खून बिखरा हुआ था और मार्टिया खून से लथपथ पड़ी हुई थी। इसके बाद परिजनों ने इसकी जानकारी पीजीआई पुलिस को दी जिसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने मामले की तफ्तीश शुरू कर दी।

चूंकि मामला सीधा सीधा हत्या से जुड़ा हुआ था बावजूद स्थानीय पुलिस शुरू में सुसाइड का केस मानती रही। इस बात का पुलिस के पास से कोई जवाब नहीं था कि कोई कैसे 5 गोली मारकर आत्महत्या कर सकता है। फिलहाल मौके पर पहुंचे  पुलिस अधिकारी ने हत्या किये जाने की बात कही है।