परिवार वालों ने बेटी की हरकतें देख घर से भगाया, करोड़पति बनने के लिए करने लगी ये काम

नई दिल्ली ( 14 जनवरी ): गैंगरेप का झूठा केस दर्ज कराकर पुलिस को गुमराह करने वाली आरोपी छात्रा आरती प्रेमी ऋषिराज मीणा के साथ मिलकर आगरा और मैनपुरी में ब्लैकमेलिंग की पांच वारदात कर चुकी है। आरती की अनैतिक गतिविधियों के कारण ही परिवारवालों ने उसे घर से निकाल दिया था। आरती करीब तीन माह तक आगरा में रही थी और वहां पर ऋषिराज भी उससे मिलने जयपुर से जाता था। यह खुलासा आरोपी ऋषिराज व आरती ने पुलिस की पूछताछ में किया है।

पुलिस ने दोनों आरोपियों को शनिवार को मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया। जहां से दोनों को पूछताछ के लिए एक दिन के रिमांड पर भेज दिया है। पुलिस जयपुर में ब्लैकमेलिंग की अन्य वारदातें करने के मामलों में दोनों आरोपियों से पूछताछ कर रही है। आरोपी आरती ने पुलिस को बताया कि उसके चार बैंक खातों में गांव में बेची गई जमीन की राशि जमा है।

जबकि पुलिस ने यूपी के मैनपुरी में पता किया तो सामने आया कि उसके पिता ने अभी तक कोई जमीन बेची नहीं है। प्रारंभिक जांच में सामने आया कि आरती ने ऋषिराज से मिलकर महज ढ़ाई माह में यह राशि लोगों को ब्लैकमेल कर हासिल की है। पुलिस पूछताछ में सामने आया कि आरोपी ऋषिराज व आरती चार माह से रिलेशनशिप में रह रहे थे।

ऋषिराज जल्द ही आरती से शादी करने वाला था और उसके माध्यम से लोगों को दुष्कर्म के केसों में फंसाकर ब्लैकमेल करने के बाद करोड़ों रुपए वसूल करना चाहता था। पैसे कमाने व ऐसा करने पर ही करोड़पति बनने के लिए ऋषिराज ने आरती को ब्रेन वॉश कर दिया था। ऐसे में आरती ऋषिराज की बातों में आकर अनैतिक काम करने लगी थी।