मुंबई एयरपोर्ट पर चैकिंग के लिए ऑफिसर ने उतरवाई जींस

नई दिल्ली (2 फरवरी): हाल ही में नई दिल्ली के एयर इंडिया प्लेन से बाहर आने के लिए एक विकलांग महिला को रेंगकर जाने के लिए मजबूर होने की घटना सामने आई थी। जिसके बाद इस घटना की काफी आलोचना की गई थी। लेकिन अब ऐसा ही एक और शर्मनाक मामला मुंबई एयरपोर्ट से सामने आया है। एक 24 वर्षीय पैसेंजर ने ट्विटर पर अपने साथ हुए दुर्व्यवहार के बारे में ट्विटर पर जानकारी दी है।

'मिड-डे' की रिपोर्ट के मुताबिक, पैसेंजर एक विकलांग युवती है जिसकी एक टांग कृत्रिम (प्रॉस्थेटिक लैग) है। युवती ने शनिवार को मुंबई एयरपोर्ट पर अपने साथ हुए दुर्व्यवहार के बारे में ट्विटर पर बताया कि किस तरह सुरक्षा में लगे एक अधिकारी ने उससे अपनी प्रॉस्थेटिक लैग दिखाने के लिए अपनी पैंट के बटन खोलने के लिए कहा।

पैसेंजर युवती अंतारा टेलांग ने बताया कि यह जबरदस्ती का फैसला था, जो उसे लेना पड़ा, क्योंकि अधिकारियों ने इसे अनिवार्य सिक्योरिटी चैक बताया था। उसने ट्वीट कर कहा, "@CSIAMumbai @MumbaiCentral ने जबरदस्ती जींस उतरवानी पड़ी। प्रोस्थेटिक लैग को स्कैनर से गुजारना और आंसू निकलवाना पड़ा। मेरे लिए हैप्पी जर्नी।"

टेलांग एक स्टार्ट-अप की डायरेक्टर है। मुंबई से बैंग्लुरु के लिए जेट एयरबेस फ्लाइट में चढ़ने से पहले वह एक सिक्योरिटी होल्ड एरिया में थी। तभी मेटल डिटेक्टर ने उसमें कुछ पकड़ लिया। जब उसने बताया कि उसकी एक प्रोस्थेटिक लैग है, तो अधिकारियों ने उसे जींस उतारकर दिखाने के लिए कहा।

उसके ट्वीट पर कई लोगों की प्रतिक्रिया आने के अगले दिन उसने ट्वीट कर कहा, "कल के लिए प्रतिक्रिया करने के लिए आप सभी का धन्यवाद। @CSIAMumbai जो अभी भी यह जवाब देना जरूरी नहीं समझती कि विकलांगों के साथ वह भेदभाव क्यों करते हैं, उन्हें नो थैंक्स।" टेलांग ने कहा, कि वह पहले भी इस तरह की परेशानी महसूस कर चुकी है। लेकिन इस घटना में उसकी असहजता काफी प्रत्यक्ष रही, जब उससे कपड़े उतारने के लिए कहा गया।

सेंट्रल इंडस्ट्रीयल सिक्योरिटी फोर्स (सीआईएसएफ) के एक अधिकारी ने बताया, "मुंबई एयरपोर्ट हाई अलर्ट पर है और सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनज़र महिला अधिकारी ने मैटल डिटेक्टर से संकेत मिलने के बाद पैसेंजर को ऐसा करने के लिए कहा। अधिकारी अपना काम कर रही थी लेकिन पैसेंजर ने इसका बुरा मान लिया।"