4 दिन तक महिला को बिना कपड़ा के रखा, किया ऐसा काम आप चौंक जाएंगे

नई दिल्ली(25 जून): राजस्थान में एक महिला की दर्दनाक कहानी सामने आई है।  पति की मारपीट से तंग 26 साल की महिला के किसी और लड़के से रिश्ते रखने पर गांव के लोगों को एतराज था। लोगों ने उसे चार दिन तक बंधक बनाकर रखा। कपड़े उतारकर पेड़ से बांध दिया। मारपीट की गई।

महिला ने कहा कि पिता की उम्र जैसे बुजुर्गों के सामने वह गिड़गिड़ाती रही, लेकिन उस पर किसी को रहम नहीं आया। चार दिन बाद पहुंची पुलिस ने जब छापे मारे तो 60 घरों के पुरुष फरार हो गए। कानोड़ के पास कसोटिया गांव में हुई इस घटना के बाद पटवारी और सिपाही को सस्पेंड किया गया है। दो टीचर्स को नोटिस दिए गए हैं। 

गांव वालों के चंगुल से छूटी महिला ने जो आपबीती सुनाई है, उससे किसी का भी दिल पसीज जाए। विक्टिम ने बताया कि गांव से कुछ दूर ही हमें गाड़ी से उतारा था। उतारते ही कुछ लोग बोले कि इनके कपड़े उतार दो, फिर गांव में ले जाते हैं। यह सुन मेरा तो कलेजा बैठ गया। मैं लोगों के सामने रोई-गिड़गिड़ाई। सामने पिता की उम्र के बुजुर्ग थे और वे महिलाएं भी जो रोज बतियाती थीं। पति पर भरोसा था कि वे मदद करेंगे, पर उसके सामने ही शरीर से एक-एक कपड़ा हटता रहा और वो कुछ नहीं बोला...। बुजुर्ग तो इंसाफ करते हैं, पर वो भी कपड़े उतारते रहे। सारे कपड़े उतारकर लोग हम दोनों को गांव तक ले गए। माथा शर्म से झुका तो लोग ताने मार रहे थे, भाई और देवर की उम्र के लड़के मोबाइल में फोटो खींचते रहे। तीन घंटे तक यह सब चलता रहा, पर किसी को लाज नहीं आई। फिर हमें माता के मंदिर के सामने पेड़ पर बांध दिया। मैंने कहा कि माता से तो डरो, पर लोग गालियां देते रहे। घंटों पेड़ पर बंधी रही, लोग आते रहे, तमाशा बनाते और गालियां देते रहे, पर किसी को दया नहीं आई। शाम को मुझे निर्वस्त्र ही कमरे में बंद कर दिया। पति ने तो कपड़े उतरवा दिए, पर उसकी मारपीट से परेशान होकर सब छोड़कर जिसके साथ गई, वह भी मेरा दर्द भूल गया। लोगों के चंगुल से छूटने के बाद वो मुझे छुड़वाना भूलकर घर जाकर बैठ गया। मैं अब मां के साथ रहूंगी। जो कुछ मेरे साथ हुआ, वह तो किसी के साथ नहीं हुआ होगा।

कानोड़ थाना क्षेत्र के कसोटिया गांव के मामले में लापरवाही बरतने पर प्रशासन ने टेकण पटवारी मोतीलाल मेघवाल और कसोटिया बीट कॉन्स्टेबल बालूराम मीणा को सस्पेंड कर दिया है। जबकि यहां के सरकारी स्कूल के टीचर प्रेमचन्द्र रैगर, दिनेश खटीक तथा एएनएम शबेना बानू को नोटिस दिए हैं।

एएसपी चन्द्रशील ठाकुर ने बताया कि पुलिस की ओर से मामला दर्ज कर 14 लोगों को अरेस्ट किया गया है। घटना की सूचना पर महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष गिरिजा व्यास भी मौके पर पहुंचीं।