मुस्लिमों की जनसंख्या बढ़ना भारतीय लोकतंत्र के लिए खतरा- गिरिराज सिंह

नई दिल्ली (17 नवंबर): अपने बयानों को लेकर सुर्खियों में रहने वाले केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने एकबार फिर विवादित बयान दिया है। गिरिराज सिंह ने देश में हिंदुओं की घटती और मुस्लिमों की तेजी से बढ़ती जनसंख्या को लेकर चिंता जताई है। उन्होंने देश में जनसंख्या में तेजी से बदलाव को राष्ट्रवाद के लिए खतरा बताया है।

गिरिराज सिंह ने ये बातें भोपाल में 'राष्ट्रवाद एक संकल्प से नव भारत की सिद्धी' विषय आयोजित एक कार्यक्रम में ये बातें कहीं। उन्होंने कहा कि कि बहुसंख्यक समुदाय के जनसंख्या में कमी से न केवल लोकतंत्र कमजोर हो रहा है, यह देश में राष्ट्रवाद की परिभाषा को बदल देगा।' उन्होंने कहा कि 1947 में भारत में मुस्लिम आबादी 8 फीसदी थी जी और हिंदुओं की आबादी 90 फीसदी थी। अब नए आंकड़ों में आया है कि हिंदुओं की जनसंख्या 72 फीसदी हो गई है जबकि मुस्लिम आबादी 20 फीसदी से ज्यादा हो गई है। 

केंद्रीय मंत्री ने दावा किया कि जनसंख्या में इस बदलाव का भारतीय संस्कृति और धर्म पर विपरीत प्रभाव डालेगा। धीरे-धीरे देश में कौमियत हावी हो जाएगा। उन्होंने कहा कि भारत में बढ़ती जनसंख्या पर लगाम लगाने के लिए एक कानून होना चाहिए।