गिरिजा वैद्यनाथन बनीं तमिलनाडु की नई मुख्य सचिव

चेन्नई (22 दिसंबर): इनकम टैक्स के छापे के बाद पी रामा मोहन राव तमिलनाडु के गृह सचिव के पद से हटा दिया गया है। तमिलनाडु सरकार ने राव की जगह गिरिजा वैद्यनाथन को मुख्य सचिव नियुक्त किया। वैद्यनाथन इससे पहले भूमि प्रशासन में अतिरिक्त मुख्य सचिव और आयुक्त थीं। साथ ही वैद्यनाथन राव द्वारा संभाले गए सतर्कता आयुक्त और प्रशासनिक सुधारों के आयुक्त पद का भी अतिरिक्त प्रभार संभालेंगी।

आपको बता दें कि आयकर विभाग के अधिकारियों ने बुधवार को तमिलनाडु के मुख्य सचिव पी राममोहन राव के घर और दफ्तर पर तलाशी ली और अफसरों ने 48 लाख रुपये के नये नोट और सात किलोग्राम सोना जब्त करने का दावा किया। इसके अलावा करीब पांच करोड़ रुपये की अघोषित आय का खुलासा किया।

आयकर विभाग ने तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में राव के बेटे और कुछ रिश्तेदारों के एक दर्जन से अधिक परिसरों पर छापे मारे थे। यहां अन्ना नगर स्थित उनके आवास पर भी छापे मारे गए थे। विभाग ने दावा किया कि छापों के दौरान 18 लाख रपये नकद और सोने की छडें बरामद हुईं हैं।

ताजा कार्रवाई तमिलनाडु में जे शेखर रेड्डी समेत रेत खनन कारोबारियों के ठिकानों पर की गयी छापेमारी के बाद की गयी है। नौ दिसंबर को आयकर विभाग ने जे शेखर रेड्डी के चेन्नई स्थित आवास एवं कार्यालय पर आयकर की तलाशी में 127 किलो सोना और नोटबंदी के बाद 170 करोड़ रुपये नकदी जब्त किये थे। इस मामले में बुधवार को सीबीआइ ने रेड्डी और उनके सहयोगी के श्रीनिवासुलू गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद सीबीआइ ने यहां की अदालत में पेश किया, जहां से इन दोनों को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

सीबीआइ सूत्रों ने बताया कि तमिलनाडु के मुख्य सचिव पीआरएम राव के बेटे के साथ व्यवसायी के ताल्लुकात भी आयकर विभाग की जांच के घेरे में है। माना जा रहा है कि रेड्डी ने राज्य भर में खनन के ठेके हासिल करने में कथित तौर पर उनका सहयोग लिया। सीबीआइ ने रेड्डी और उनके सहयोगियों के श्रीनिवासुलू और प्रेम कुमार के खिलाफ भ्रष्टाचार निरोधक कानून के अलावा भारतीय दंड संहिता के तहत आपराधिक साजिश रचने और धोखाधड़ी करने का मामला दर्ज किया है।