1965 की जंग में PAK के छक्के छुड़ाने वाले अब्दुल हमीद को आर्मी चीफ ने दी श्रद्धांजलि

गाजीपुर (10 सितंबर): 1965 की जंग में पाकिस्तान के छक्के छुड़ाने वाले महानायक परम वीर चक्र विजेता शहीद वीर अब्दुल हामिद को सेना प्रमुख बिपिन रावत और युपी के राज्यपाल राम नाईक ने गाजीपुर जाकर श्रद्धांजलि दी।  इसके बाद आर्मी चीफ ने शहीद की पत्नी रसूलन बीबी और उन्य परिजनों से मुलाकात की। कई शहीदों के परिजनों को सम्मानित भी किया। इस दौरान आर्मी चीफ ने शहीद अब्‍दुल हमीद की पत्‍नी के पैर छूकर आर्शीवाद भी लिया। 

इस मौके पर आर्मी चीफ रावत ने कहा कि इंडियन आर्मी दुनिया की श्रेष्ठ सेनाओं में से एक है। 7 पैटन टैंकों को ध्वस्त करने वाले वीर कभी-कभी पैदा होते हैं। 1965 के भारत और पाक युद्ध में इन्होंने शौर्य का प्रदर्शन किया था। गाजीपुर के धरमपुर गांव के रहने वाले अब्दुल हमीद 1965 की लड़ाई में शहीद हो गए थे, तभी से उनका परिवार हर साल 10 सितंबर को इस कार्यक्रम आयोजित करता है। अब्दुल हमीद का ये 52वां शहादत दिवस था।