प्रवीण त्यागी हत्या: न्याय के लिए बहन ने शुरू किया 600 किमी का मार्च


नई दिल्ली ( 4 अगस्त ):
उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में 22 मई को हुई प्रवीण त्यागी मर्डर केस में पुलिस के ढुलमुल रवैये से परेशान होकर एक बहन पदयात्रा पर निकल चुकी है। भाई को इंसाफ और हत्यारों को सजा दिलाने के लिए मृतक प्रवीण त्यागी की बहन अरुणा त्यागी गाजियाबाद से लखनऊ तक का सफर पैदल तय कर रही हैं। जमीनी रंजिश में खिंदौड़ा गांव में हुई किसान प्रवीण त्यागी की हत्या के मामले में पुलिस के हाथ जहां अभी पूरी तरह खाली हैं, वहीं, बहन अरुणा त्यागी ने अपने भाई को इंसाफ दिलाने के लिए मोर्चा खोल दिया है।

इस बाबत अरुणा गाजियाबाद से लखनऊ तक पैदल मार्च निकाल रही हैं। वह लखनऊ में सीएम योगी आदित्यनाथ से मिलकर अपनी बात रखेंगे। अरुणा त्यागी ने पैदल मार्च के दौरान मीडिया से बातचीत में कहा कि उनके भाई की हत्या इतने निर्मम तरीके से कई गई थी कि शव पहचानना मुश्किल था। 

उनका कहना है कि पुलिस अधिकारी भी किसी तरह की मदद नहीं कर रही है। निराश होकर पैदल मार्च का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि वह सीएम योगी से मिलकर अपनी मांग रखेंगी। उन्होंने दोहराया कि राम राज्य में उन्हें जरूर इंसाफ मिलेगा।

बता दें कि खिंदौड़ा गांव में प्रवीण त्यागी (35) की लोहे की तार से गला घोंटकर 22 मई की रात को हत्या कर दी गई थी। वह बुदाना गांव से मोटरसाइकिल से गन्ना भुगतान के 20 हजार रुपये लेकर घर के लिए चला था। इसी बीच वह लापता हो गया था।

मृतक के भाई अरविंद ने इस मामले में भुल्लन, उसके बेटे कालू, सूबेदार निवासी ओड्डापुर, छपरौली, बागपत, उनके रिश्तेदार प्रसन्न व रविंद्र निवासी रेलवे रोड मुरादनगर एवं गौरव निवासी निवाड़ी रोड के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई थी, लेकिन पुलिस अभी तक किसी भी आरोपी को गिरफ्तार नहीं कर सकी है।