पाकिस्तान और चीन से एक साथ जंग लड़ने में सक्षम भारतीय सेना- आर्मी चीफ


नई दिल्ली (2 जनवरी): भारतीय सेना अपने दुश्मनों से निपटने में सक्षम है और किसी भी तरह के जंग के लिए तैयार है। ये कहना है कि देश के नए आर्मी चीफ बिपिन रावत का। देश के नए आर्मी चीफ ने कहा है कि हमारी सेना पाकिस्तान और चीन से एक साथ जंग लड़ने के लिए तैयार है लेकिन चीन से टकराव की जगह सहयोग के रास्ते तलाशे जाने चाहिए। सर्जिकल स्ट्राइक के मास्टर कहे जाने जनरल रावत ने कहा है कि सीमा पार आतंकवाद से निपटने के लिए भारत के पास सर्जिकल स्ट्राइक से भी प्रभावी रास्ते हैं।


जनरल रावत ने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक से भी बेहतर तरीके हैं, जिनसे उसी जैसा संदेश दिया जा सकता है। यह हमारी सेना के लिए भविष्य का हथियार होगा, यह कहना सही नहीं होगा। सर्जिकल स्ट्राइक सिर्फ एक पहलू है, इसके अलावा कई और रास्ते भी हैं। इसे सेना प्रमुख द्वारा पाकिस्तान को चेतावनी के तौर पर देखा जा रहा है।


आर्मी चीफ ने कहा है कि अगर हमारा दुश्मन आतंकियों को सपॉर्ट करेगा तो हमारी रणनीति साफ है, हम बल प्रयोग करेंगे। हम अपनी जरूरतों के हिसाब से इसका इस्तेमाल करेंगे। उन्होंने कहा कि इसके लिए हमें सरकार ने फ्री हैंड दे रखा है। पाकिस्तान के नए आर्मी चीफ जनरल बाजवा के बारे में उन्होंने कहा कि हम दोनों एक-दूसरे की क्षमताओं को समझते हैं और इसी संदेश के साथ दोनों आगे बढ़ें तो शांति रहेगी।


सेना के बेस कैंपों पर हो हमले पर जनरल रावत ने कहा कि आतंकवादी हमलों के अपने तरीके बदल रहे हैं और ऐसा पूरी दुनिया में हो रहा है। हमारे यहां देखने में आया है कि मिलिटरी कैंपों पर हमले हो रहे हैं। हमें सोच में उनसे आगे रहना होगा, हमें जानना होगा कि उनका अगला कदम क्या होगा। सरकार ने हमें कुछ गाइडलाइंस दी हैं और हमें उम्मीद है कि हम ऐसे हमलों पर काबू पा सकेंगे।