कई राज्यों से जुड़े हैं 'जीबी रोड रैकिट' के तार

 

नई दिल्ली(3 सितंबर): देह व्यापार के लिए लड़कियों की खरीद-फरोख्त का धंधा करने वालों के कनेक्शन सिर्फ जीबी रोड तक सीमित नहीं, बल्कि इनका नेटवर्क आसपास के राज्यों में भी फैला है। मेरठ में रेड एरिया में पुलिस की रेड के दौरान 13 लड़कियां रिकवर हुईं, जिनमें कई नाबालिग हैं। 

- यूपी पुलिस ने बताया है कि इन लड़कियों को नशे के इंजेक्शन देकर पहले दिल्ली ले जाया गया था, फिर मेरठ लाया गया। ये मानव तस्करी का मामला है। आशंका है कि पुलिस की रेड से पहले कई लड़कियों को कोठों से शिफ्ट कर दिया गया।

- इस खुलासे से जाहिर है कि जीबी रोड व दिल्ली के आसपास के क्षेत्रों में लड़कियों की खरीद-फरोख्त करने वालों का साझा नेटवर्क है। चूंकि, दिल्ली में जीबी रोड पर मानव तस्करी का पहला मकोका केस दर्ज होने से कोठों पर हड़कंप मचा है, इसलिए आशंका है कि लड़कियों की खरीद-फरोख्त करने वालों ने गाजियाबाद, मेरठ, मुरादनगर व आसपास के इलाकों का रुख कर लिया है। जीबी रोड पर पुलिस की कार्रवाई से उन पर कोई खास फर्क नहीं पड़ा है। सिर्फ दिल्ली से दूरी बना ली है। दूसरी ओर यूपी पुलिस का दावा है कि वह रेड लाइट एरिया में जबरन देह व्यापार और मानव तस्करी के खिलाफ लगातार कार्रवाई कर रहे हैं।

एएचटीयू थाना प्रभारी रश्मिी चौधरी के मुताबिक, कल रिकवर लड़कियों में 4 कोलकाता से, 3 राजस्थान से, 4 नेपाल से और 2 बेंगलुरु से हैं। आज सभी का मेडिकल कराया जाएगा। पुलिस ने मौके से सात ग्राहकों को भी अरेस्ट किया। इससे पहले भी यहां देह व्यापार में धकेली गई नेपाल व अन्य राज्यों की लड़कियां रिकवर की जा चुकी हैं।

-बताया जा रहा है कि यह कार्रवाई शक्तिवाहिनी नामक एनजीओ की सूचना पर की गई। यह एनजीओ दिल्ली में भी एक्टिव है।