राजनीति में आने के सवाल पर गौतम गंभीर ने दिया ये जवाब

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (6 दिसंबर): टीम इंडिया के पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर ने राजनीति में आने के सवाल पर 'गंभीर' जवाब दिया है। गौतम ने कहा है कि यदि किसी को मौका मिलता है तो देश सेवा करनी चाहिए। टीम इंडिया के लिए 58 टेस्ट और 147 वनडे खेलने वाले गौतम गंभीर ने 4 दिसंबर को क्रिकेट से सभी फॉरमेट से सन्यास लेने का ऐलान किया था।

गौतम ने रिटायरमेंट पर किसी खिलाड़ी के लिए फेयरवेल मैच आयोजित करने और पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू के पाकिस्तान जाने को लेकर भी अपनी बात रखी है। बता दें कि गौतम गंभीर 6 दिसंबर को दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान में आंध्र प्रदेश के खिलाफ अपना अंतिम रणजी मैच खेलेंगे।

गौतम गंभीर एक अखबार को दिए इंटरव्यू में एक खिलाड़ी के लिए अंतिम मैच में सम्मान जनक विदाई को लेकर किए गए सवाल के जवाब में कहा, 'किसी भी खिलाड़ी के लिए फेयरवेल मैच आयोजित नहीं किया जाना चाहिए।' उन्होंने कहा कि टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के साथ किसी प्रकार के विवाद को लेकर भी अपनी बात रखी। गंभीर ने कहा कि उनका धोनी के साथ कोई विवाद नहीं है।

गौतम गंभीर ने पूर्व क्रिकेटर और पंजाब सरकार के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के पाकिस्तान जाने को लेकर कहा कि सिद्धू को पाकिस्तान नहीं जाना चाहिए था। गौतम ने कहा कि किसी को भी लोगों की भावनाओं को ठेस नहीं पहुंचानी चाहिए।

रिटायरमेंट के बाद राजनीति में आने के सवाल पर टीम इंडिया के इस पूर्व कप्तान ने कहा कि यदि देश सेवा का मौका मिलता है तो बेहतर है कि राजनीति में जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि यदि मुझे मौका मिला तो मैं रबर स्टैम्प नहीं बनूंगा।

बता दें कि गौतम गंभीर कुछ दिन पहले ही 37 साल के हुए थे। टीम इंडिया में जगह नहीं बना पाने के कारण उनके क्रिकेट भविष्य पर आए दिन लोग सवाल पूछते रहते थे, लेकिन उन्होंने इन सभी कयासों पर विराम लगा दिया। गंभीर ने 58 टेस्ट, 147 वनडे और 37 टी20 इंटरनेशनल मैच खेले. गंभीर ने 58 टेस्ट मैचों में 41.96 की औसत से 4154 रन बनाए. इनमें नौ शतकीय पारी शामिल हैं।