राणातुंगा के आरोपों का गंभीर ने दिया सॉलिड जवाब

नई दिल्ली(15 जुलाई): भारतीय टीम के वर्ल्ड कप हीरो ने श्रीलंका के पूर्व कप्तान अर्जुन रणातुंगा की 2011 फाइनल की जांच की मांग को 'अपमानजनक' बताया है। भारत ने वर्ल्ड कप फाइनल में श्रीलंका को छह विकेट से हराकर दूसरी बार 50 ओवर के इस टूर्नमेंट को जीता था।


- रणातुंगा ने अपने फेसबुक पेज पर एक विडियो पोस्ट कर कहा था, 'जब हम हारे तो मैं उस समय भारत में ही कॉमेंट्री कर रहा था। मुझे कुछ शक हुआ। हमें इस बात की जांच जरूर करवानी चाहिए कि आखिर वर्ल्ड कप 2011 के फाइनल में श्रीलंका की टीम को क्या हो गया था। मैं अभी कुछ खुलासा नहीं कर सकता, लेकिन एक दिन जरूर करूंगा। इसकी जांच जरूर होनी चाहिए।'


- रणातुंगा की इस मांग से कुछ भारतीय खिलाड़ी इत्तेफाक नहीं रखते। खिलाड़ियों का मानना है कि यह उनके प्रयास को कमतर करके आंकना है। गौतम गंभीर ने कहा, 'मैं रणातुंगा के आरोपों से काफी हैरान हूं। यह बात उस खिलाड़ी ने कही है जिसका अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में काफी सम्मान है। मुझे लगता है कि पूरे मसले को साफ करने के लिए उन्हें अपने आरोप को साबित करने के लिए कुछ सबूत पेश करने चाहिए। फाइनल में गंभीर सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज थे। उन्होंने इस मुकाबले में 97 रनों की पारी खेली थी।


- 2011 विश्व कप विजेता टीम के अहम खिलाड़ी रहे बाएं हाथ के तेज गेंदबाज आशीष नेहरा ने कहा कि इस तरह के बयानों पर ज्यादा ध्यान नहीं देना चाहिए। उन्होंने कहा, 'मैं रणातुंगा के इस बयान पर कोई टिप्पणी कर बात को आगे नहीं बढ़ाना चाहता। इस तरह की बातों का कोई अंत नहीं है। अगर मैं श्रीलंका के 1996 विश्व कप जीत पर सवाल उठाऊं तो क्या यह अच्छा लगेगा? तो, इस बात में नहीं पड़ना चाहिए। लेकिन, जब उनके कद का कोई व्यक्ति ऐसी बात करता है तो निराशा होती है।'


- इस बीच हरभजन सिंह ने रणातुंगा के ताजा आरोपों पर कोई टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। यह पहला मौका नहीं है जब रणातुंगा ने 2011 वर्ल्ड कप फाइनल पर सवाल उठाए हैं। कई मंचों पर पहले भी श्रीलंका के विश्व कप विजेता कप्तान ने हैरानी जताई कि फाइनल से पहले कैसे कई खिलाड़ी चोटिल हो गए और फाइनल से हट गए।