उत्पाती गोरक्षकों पर खुलकर बोले बाबा रामदेव

नई दिल्ली(10 सितंबर): योग से लेकर राजनीति और फिर बिजनस में अपनी मजबूत दखल देने वाले बाबा रामदेव ने गोरक्षा के नाम पर हो रही हिंसा के मामले में बेबाकी से अपनी राय रखी है। रामदेव ने कहा कि यह जरूरी है कि गोरक्षा के नाम पर हिंसा फैलाने वाले तत्वों पर रोक लगाई जाए। 

- बाबा रामदेव ने कहा कि मैं देश में अच्छे नाता चाहता हूं और एक स्थिर राजनीतिक व्यवस्था चाहता हूं। मेरी कोई राजनीतिक महत्वाकांक्षा नहीं है।

- गोरक्षकों के उत्पात को लेकर बाबा रामदेव ने कहा कि सिर्फ नारेबाजी से गोरक्षा नहीं की जा सकती है। काफी लोग हैं, जो इस क्षेत्र में अच्छा काम कर रहे हैं। इन्हें प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। यदि सरकार तीर्थ यात्राओं और हज पर करोड़ों रुपये खर्च कर सकती है तो गोरक्षा पर क्यों नहीं? रामदेव ने कहा कि केंद्र और राज्य के स्तर पर गोशाला पॉलिसी बनाए जाने की जरूरत है। हम पहले ही इस पर काम कर रहे हैं। हमने इसके लिए 500 करोड़ रुपये का आवंटन किया है। जरूरत होगी तो और राशि दी जाएगी। गोरक्षा के नाम पर आतंक फैलाने पर रोक लगनी चाहिए।

- रामदेव ने कहा कि यह बताए जाने की जरूरत है कि गाय धर्म से ऊपर है। उन्होंने कहा कि लोगों को यह महसूस करना चाहिए कि गाय, गीता, वेद, राम और कृष्ण इस दुनिया में किसी भी धर्म के आने से पहले थे। कोई भी धर्म 2,500 साल से ज्यादा पुराना नहीं है। चुनाव लड़ने के सवाल पर रामदेव ने कहा कि मैं कभी चुनाव नहीं लड़ूंगा। अपनी आखिरी सांस तक मैं अपनी इस बात पर कायम हूं। यदि मैं राजनीति से जुड़ना चाहता तो पार्टी भी बना सकता था।