लॉर्ड्स की बालकनी में टीशर्ट उतारने का आज तक है अफसोस: सौरव गांगुली

नई दिल्ली (28 फरवरी): गांगुली ने आत्मकथा ‘ए सेंचुरी इज नॉट एनफ’ में क्रिकेट से जुड़ी अपनी कुछ बातों को फैन्स के साथ शेयर किया है। ये किताब अभी लॉंच नहीं हुई है लेकिन किताब के कुछ अंशों को गांगुली ने फैन्स के साथ शेयर किया है। 

गांगुली ने अपनी इस किताब में साल 2002 में खेले गए नैटवेस्ट सीरीज का ज़िक्र किया। गांगुली ने कहा कि फाइनल मैच में जीत को लेकर टीम काफी उत्साहित थी. ज़हीर ख़ान के विनिंग शॉट लगाते ही मैं अपने आपको रोक नहीं सका। गांगुली ने माना कि जीत के बाद शर्ट उतारकर जश्न मनाना सही नहीं था। जीत का जश्न मनाने के और भी कई तरीके थे।

गांगुली ने कहा, ”जब इंग्लैंड की टीम भारत आई थी, एंड्र्यू फ्लिंटॉफ ने यह काम किया था। लॉर्ड्स में फाइनल मुकाबला जीतने के बाद मैंने भी कुछ ऐसा ही किया हालांकि, इस घटना के बाद इसे लेकर काफी पछतावा हुआ और मैं आज तक इस बात का अफसोस कर रहा हूं। रियल लाइफ में मैं इस तरह का इंसान नहीं हूं। ख़ुशी ज़ाहिर करने के और भी तरीके थे, लेकिन क्रिकेट का जुनून मुझ पर इस कदर हावी था कि मैंने फ्लिंटॉफ को उन्हीं के अंदाज में जवाब देना बेहतर समझा।”