Blog single photo

बिहार में बाहुबलियों से डरी पार्टियां, उनकी पत्नियों को दे रही हैं टिकट

टिकट बंट रहे हैं और हर बार की तरह इस बार भी बाहुबलियों का जलवा है। जो खुद नहीं लड़ सके उन्होंने घरवाली को उतार दिया । बिहार के चुनावी अखाड़े की कमान अब बाहुबलियों की पत्नियों के हाथ आ गई है। कविता सिंह बाहुबली अजय सिंह की पत्नी हैं और हीना शहाब बाहुबली मोहम्मद शहाबुद्दीन की बीबी। मोहम्मद शहाबुद्दीन तिहाड़ जेल में हैं और पति की सीट पर हीना शहाब मैदान में हर बार उतरती रही हैं और अभी तक एक बार भी जीत

न्यूज 24 ब्यूरो, सौरभ कुमार, पटना (24 मार्च): टिकट बंट रहे हैं और हर बार की तरह इस बार भी बाहुबलियों का जलवा है। जो खुद नहीं लड़ सके उन्होंने घरवाली को उतार दिया । बिहार के चुनावी अखाड़े की कमान अब बाहुबलियों की पत्नियों के हाथ आ गई है। कविता सिंह बाहुबली अजय सिंह की पत्नी हैं और हीना शहाब बाहुबली मोहम्मद शहाबुद्दीन की बीबी। मोहम्मद शहाबुद्दीन तिहाड़ जेल में हैं और पति की सीट पर हीना शहाब मैदान में हर बार उतरती रही हैं और अभी तक एक बार भी जीत नहीं मिली है। दूसरी ओर अजय सिंह की विधायक पत्नी कविता सिंह इस बार सीवान से जेडीयू की प्रत्याशी हैं। ये भी तय है कि सीवान में लड़ाई अब इन्हीं दोनो के बीच है।नीलम देवी- कांग्रेस प्रत्याशी, मुंगेरमुंगेर लोकसभा सीट से कांग्रेस की प्रत्याशी बनीं नीलम देवी मोकामा में ‘छोटे सरकार’ के नाम से चर्चित और विधायक बाहुबली अनंत सिंह की पत्नी हैं। अनंत सिंह पर 50 से ज्यादा आपराधिक मामले चल रहे हैं। छह मामलों में तो कोर्ट ने चार्ज भी फ्रेम कर दिया है, जिसमें आरोप साबित होने पर उन्हें दो साल से ज्यादा की सजा हो सकती है।वीणा देवी- एलजेपी प्रत्याशी, नवादावीणा देवी बिहार के मुंगेर से रामविलास पासवान की पार्टी एलजेपी की सांसद हैं और बिहार के बाहुबली सूरजभान सिंह की पत्नी हैं। इस बार एलजेपी ने उन्हें मुंगेर की जगह नवादा से प्रत्याशी बनाया है। वीणा देवी के पति सूरजभान सिंह तीस से ज्यादा जघन्य आपराधिक मामलों में आरोपी हैं। हत्या के एक मामले में कोर्ट उन्हें आजीवन कारावास की सजा भी सुना चुकी है, लेकिन रामविलास पासवान अब भी उन्हें समाजसेवी कहकर पुकारते हैं।लवली आनंद- संभावित कांग्रेस प्रत्याशी, शिवहरलवली आनंद बिहार के बाहुबली नेता आनंद मोहन की पत्नी हैं। आनंद मोहन फिलहाल कलेक्टर जी कृष्णैया हत्याकांड में जेल की सजा काट रहे हैं। लिहाजा लवली आनंद उनकी विरासत संभाल रही हैं और इस बार कांग्रेस के टिकट पर लोकसभा पहुंचना चाहती हैं। लवली आनंद पहले भी वैशाली से सांसद रह चुकी हैं, लेकिन राजपूत जाति से होने के कारण उन्होंने शिवहर सीट चुनी है, जिसे बिहार का चित्तोड़गढ़ कहा जाता है।

Tags :

NEXT STORY
Top