इस डॉन पर बनी है शाहरुख की फिल्म रईस...

मुंबई (26 जनवरी): बॉलीवुड के बादशाह शाहरुख खान की फिल्म रईस रिलीज हो चुकी है। लेकिन बहुत ही कम लोगों को पता है कि यह फिल्म एक ऐसे शख्स की जिंदगी पर बनी है, जिसने दाऊद को भी चुनौती दे दी थी। अहमदाबाद के उस डॉन का नाम था अब्दुल लतीफ, उसे गुजरात का किंग भी कहा जाता था।

कौन था अब्दुल लतीफ

अब्दुल लतीफ अहमदाबाद के दरियापुर इलाके में रहा करता था। उसका जन्म वहीं हुआ था। परिवार की माली हालत ठीक नहीं थी। परिवार बड़ा था लिहाजा घर के सभी लोग काम किया करते थे। मुश्किल हालात और आर्थिक कमजोरी ने अब्दुल लतीफ को ज्यादा पढ़ने का मौका नहीं दिया। छोटी उम्र में ही अब्दुल को दो जून की रोटी के लिए काम करना पड़ा और कच्ची उम्र में ही वो एक ऐसे रास्ते पर चल पड़ा जो मौत के पास जाकर खत्म होता था।

जुर्म की दुनिया में पहला कदम

80 के दशक में उसने कालूपुर ओवरब्रिज के पास देशी शराब बेचने की शुरुआत कर दी। बस यहीं से उसने जरायम की दुनिया में पहला कदम रखा था। इसके बाद लतीफ ने शहर के कोट इलाके में रहने वाले बदमाशों को अपनी गैंग में शामिल किया और फिर हथियार सप्लाई करने वाले शरीफ खान से हाथ मिला लिया। इस तरह लतीफ शराब के साथ-साथ हथियारों की तस्करी करने लगा था।

दाऊद से गैंगवार, फिर दोस्ती

बताया जाता है कि इसी बीच अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम भी गुजरात के वडोदरा में ड्रग्स का नेटवर्क खड़ा कर चुका था। इसी दौरान एक बार दाऊद और लतीफ के बीच गैंगवार छिड़ गई। लतीफ के गुर्गों ने दाऊद को घेर लिया और दाऊद को वडोदरा से भागना पड़ा था, लेकिन बाद में इस तरह की खबरें आई थी कि दाऊद और लतीफ के बीच दोस्ती हो गई थी। यही वजह थी कि मुंबई के सीरियल ब्लास्ट मामले में अब्दुल लतीफ का नाम भी आया था।