VIDEO: विधायक निवास में नाबालिग की अस्मत को किया गया तार-तार

आदित्य, नागपुर (22 अप्रैल): नागपुर में एक नाबालिग लड़की से विधायक निवास में गैंगरेप का सनसनीखेज मामला सामने आया है। 4 दिनों तक नाबालिग के साथ हैवानियत को अंजाम दिया गया। आरोपियों ने एक साजिश के तहत इस पूरी घिनौनी वारदात को अंजाम दिया।

नागपुर के विधायक निवास के कमरा नंबर 320 में आज से ठीक 8 दिन पहले एक दर्दभरी चींख गूंज रही थी। कमरे एक 17 साल की मासूम की आबरू को कुछ दरिंदे मिलकर अपनी हवस का शिसार बना रहे थे। 31EK 5408 नंबर की कार में मासूम लड़की को कुछ हैवान पहले अपने भरोसे का जाल बिछाकर उसमें उसे फंसाते हैं। भोपाल घूमने जाने की साजिश रचते हैं और फिर गैंगरेप जैसी घिनौनी वारदात को अंजाम देते हैं। पहले कार और फिर कमरे में लड़की के साथ सामूहिक दुष्कर्म करते हैं।


पीड़ित लड़की पीबी ज्वेलर्स नाम के दुकान में काम करती थी। उसी दुकान के मालिक 44 साल के मनोज भगत ने अपने दोस्त के साथ मिलकर गैंगरेप जैसी खौफनाक वारदात की साजिश रची। मनोज भगत के पीड़ित लड़की के घरवालों से काफी अच्छे रिश्ते थे और उसी का फायदा उठाकर उसने भोपाल घूमने का झूठा प्लान बनाया। लड़की को भोपाल ले जाने के बहाने नागपुर के ही विधायक निवास लेकर पहुंच जाता है और फिर 14 से 16 अप्रैल तक विधायक भवन के कमरे में बंधक बनाकर उसकी जिस्म को तार-तार करता है।

पीड़ित परिवार की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी मनोज भगत और रजत तेजलाल मदरे को गिरफ्तार कर लिया है। दोनों को अदालत ने 24 अप्रैल तक पुलिस रिमांड पर भेज दिया है। अब सवाल उठता है कि जो विधायक निवास विधायकों के ठहरने के लिए है, वहां कैसे आरोपियों को कमरा दिया गया और कैसे इस हैवानियत की खबर विधायक भवन के कर्मचारियों और सुरक्षा गार्डों को नहीं लगी।