गणेश चतुर्थी: जानें पूजा का शुभ मुहूर्त और सामग्री...


मुंबई (25 अगस्त): गणेश चतुर्थी भगवान गणेश के जन्म के उपलक्ष्य में मनाई जाती है। यह त्योहार भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को पड़ता है। गणेश चतुर्थी का त्योहार भारत के अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलग तरीके से मनाया जाता है। यह त्योहार महाराष्ट्र में धूम-धाम से मनाया जाता है।

गणेश चतुर्थी के दिन घर में भगवान गणेश की मूर्ति स्थापित की जाती है। इसके बाद पूरे दस दिन उसकी पूजा की जाती है और आखिरी दिन इस मूर्ति का विसर्जन किया जाता है। इस बार गणेश चतुर्थी का त्योहार 25 अगस्त से शुरू होकर 5 सितंबर तक मनाया जाएगा, जिसके बाद भगवान गणेश की प्रतिमा को 10वें दिन विसर्जित किया जाता है।

भगवान गणेश की पूजा का शुभ मुहूर्त...
भगवान गणेश का आशीर्वाद पाना है तो उनकी पूजा का शुभ समय सुबह 11:06 से 1 बजकर 39 मिनट तक है। पौराणिक प्रमाणों के अनुसार, भगवान गणेश का जन्म दिन के मध्याह्न में हुआ था, जिसके कारण इस समय को महत्वपूर्ण माना जाता है।

भगवान गणेश की पूजा में इन सामग्री का करें उपयोग...
सुबह जल्दी उठकर गणेश चतुर्थी के दिन सोने, चांदी, तांबे और मिट्टी के गणेश जी की प्रतिमा स्थापित कर षोडशोपचार विधि से उनका पूजन करें। उन्हें 21 लड्डुओं या मोदक का भोग लगाएं। पूजा के दौरान लाल रंग की चौकी, जल भरा कलश, लाल रंग का कपड़ा, पंचामृत, रोली, मोली, लाल चंदन, शुद्ध जनेऊ के साथ गंगाजल, सिंदूर चांदी का वर्क और लाल फूल का इस्तेमाल करें। इसके साथ ही धानी सुपारी लौंग, इलायची नारियल फल दूर्वा, दूब पंचमेवा घी का दीपक धूप, अगरबत्ती और कपूर लें, लेकिन भगवान को भोग लगाते समय उनका पसंदीदा मोदक जरुर लें।