त्रिपुरा बोर्ड की किताब से कथित तौर पर 'गांधी' को हटाया गया

नई दिल्ली (26 मई): राजस्थान बोर्ड के करिकुलम में बदलाव को लेकर हुए विवाद के कुछ दिन बाद एक अन्य विवाद पैदा हो गया है। यह विवाद त्रिपुरा बोर्ड ऑफ सेकेंड्री एजुकेशन (टीबीएसई) की किताबों से महात्मा गांधी को कथित तौर पर हटाए जाने से जुड़ा है। जो कक्षा 9 की इतिहास की किताबों से संबंधित है।

'टाइम्स ऑफ इंडिया' की रिपोर्ट के मुताबिक, ऐसे आरोप लगाए जा रहे हैं, कि वामपंथियों के शासन वाले राज्य के पाठ्यक्रम में कम्यूनिस्ट नेता कार्ल मार्क्स का महिमामंडन किया गया है। त्रिपुरा हिस्ट्री सोसाइटी के सदस्य संतोष साहा ने कहा, "किताब में एडोल्फ हिटलर, कार्ल मार्क्स, सोवियत क्रांति, फ्रांस की क्रांति, क्रिकेट के जन्म और दूसरे विषयों को शामिल किया गया है। लेकिन भारत के स्वतंत्रता अभियान और गांधी की भूमिका को नहीं।"

टीबीएसई अध्यक्ष मिहिर देब ने कहा, हालांकि, बोर्ड ने इतिहास का पाठ्यक्रम एनसीईआरटी के दिशानिर्देशों के आधार पर तैयार किया है। "हमने कुछ भी शामिल नहीं किया है, ना ही मिटाया है। फिर भी अगर कुछ भी किताब में गलत है, हम निश्चित ही कार्रवाई करेंगे।"

इतिहासकार सुभाशीष चौधरी का कहना है कि रानी लक्ष्मीबाई, नेताजी सुभाष चंद्र बोस से जुडे संदर्भ भी इस साल के संस्करण से गायब हैं।