G-20 समिट: पीएम मोदी बोले- वित्तीय घोटालेबाजों और भगोड़ों के खिलाफ मिलकर काम करने की जरूरत


न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (1 दिसंबर ):  पीएम मोदी ने शुक्रवार को कहा कि अब वक्त आ गया है कि विकासशील देशों की प्राथमिकता को भी जी-20 के एजेंडा में शामिल किया जाए। यहां चल रहे जी-20 देश के सम्मेलन से इतर ब्रिक्स नेताओं की एक अनौपचारिक बैठक में मोदी ने कहा, "जी-20 सम्मेलन में हमारे आपसी सहयोग का आधार मजबूत होना है। इस समूह की अगुवाई विकासशील देश द्वारा की जा रही है। यह एक अच्छा अवसर है, विकासशील देशों की प्राथमिकताओं को भी जी-20 के एजेंडा में प्राथमिकता दी जानी चाहिए।


उन्होंने वैश्वीकरण और बहुपक्षवाद में सुधार के लिए भारत की प्रतिबद्धता को दोहराया। पीएम मोदी ने संयुक्त राष्ट्र के आतंकवादरोधी नेटवर्क को मजबूत बनाने की सिफारिश की और ब्रिक्स और जी-20 देशों को उस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए साथ मिलकर काम करने की गुजारिश की। 

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि आतंकवाद के वित्तपोषण और आतंकवादी गतिविधियों को रोकने के लिए संयुक्त राष्ट्र की आतंकवादरोधी नेटवर्क को मजबूत किया जाना चाहिए और इस उद्देश्य के लिए ब्रिक्स और जी-20 देशों को साथ मिलकर काम करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि वित्तीय घोटालेबाजों और भगोड़ों के खिलाफ भी मिलकर काम करने की जरूरत है। यह समस्या वैश्विक वित्तीय स्थिरता के लिए एक गंभीर खतरा बन सकती है। 



जी-20 समिट से इतर पीएम नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच मुलाकात हुई। पीएम मोदी ने कहा कि हाल के समय में दोनों देशों के बीच कई मुद्दों पर मतभेदों को दरकिनार कर आगे बढ़ रहे हैं। भारत को उम्मीद है कि चीन भी पूर्वाग्रहों को छोड़कर आगे बढ़ेगा। एशिया के दोनों शक्तिशाली मुल्कों को आगे आकर दुनिया को एक नई व्यवस्था देना है।