UP के बागपत में लड़की लापता, VHP-बजरंग दल के हस्तक्षेप के बाद तनाव

शिवांग माथुर, नई दिल्ली (30 जून): पश्चिमी यूपी के बागपत जिले के जोहड़ी गांव से एक लड़की के गायब होने के बाद पूरे इलाके में तनाव है। 14 जून को अगवा हुई लड़की को पुलिस अब तक बरामद नहीं कर पायी है। इस बीच पंचायत ने ऐलान किया कि अगर लड़की वापस नहीं आती तो आरोपी पक्ष की दो लड़कियों को उठा लिया जाएगा। अब इस मामले में विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल भी कूद गए हैं। बजरंग दल ने कहा है कि आरोपी परिवार की एक नहीं दो लड़कियों को उठाने के बाद ही अक्ल आएगी। 

बागपत सुलग रहा है। जोहड़ी गांव में सन्नाटा पसरा हुआ है। किसी बड़े तूफान से पहले का सन्नाटा, बिनोली थाना में तैनात कॉस्टेबल और अफसर भी दिन-रात मुस्तैद है। जब से जोहड़ी गांव की एक बेटी गायब हुई है। उसके बाद से ही कभी पंचायत बैठ रही है। विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल के लोग भी एक्टिव है।

दरअसल, 16 जून से जोहड़ी की एक बेटी गायब हो गयी। लड़की के घरवालों ने गांव के ही दूसरे महजब के एक लड़के के खिलाफ अपहरण का मामला दर्ज करवा दिया। लेकिन, जब लड़की वापस नहीं मिली, तो पंचायत बैठी। फैसला किया-आरोपी पक्ष की एक लड़की को उठा लिया जाएगा। लेकिन, अब विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल से जुड़े लोग भी आग में घी डाल रहे हैं।

जिस घर से लड़की गायब हुई। वहां लगातार मीटिंग पर मीटिंग चल रही है। दूसरे समुदाय के लोगों को पाठ-पढ़ाने के फॉर्मूले पर मंथन चल रहा है। जिस मां की बेटी गायब हुई, उस मां को तो बस अपनी बेटी चाहिए। उसे कुछ नहीं चाहिए। उसे राजनीति से कोई मतलब नहीं। लेकिन, जिस परिवार के बेटे पर लड़की को अगवा करने का आरोप है, वो गायब है। आरोपी की मां अपने कलेजे पर पत्थर रख कर कह रही है कि अगर बेटा दोषी है तो उसे गोली मार दो।

पुलिस किसी तरह मामला शांत कराने में जुटी है। लेकिन, जोहड़ी की पंचायत लड़की के बदले आरोपी पक्ष की लड़की उठाने का फरमान सुना चुकी है। विश्वहिंदू परिषद के लोग बड़ा आंदोलन करने की बात कर रहे हैं। बजरंग दल एक लड़की के बदले दो लड़की उठाने की बात कर रहा है। क्या बागपत में अपहरण के मामले को सियासी रंग देकर दूसरा मुजफ्फनगर और कैराना बनाने की राजनीतिक कोशिश हो रही है।