जानिए, 'आवाज-ए-पंजाब' बनाने वाले नवजोत सिंह सिद्धू का पूरा राजनैतिक सफर

नई दिल्ली (2 सितंबर): पंजाब की सियासत में एक नया मोड़ आ गया है। बीजेपी छोड़कर गए पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू ने नई पार्टी बना ली है। उनकी नई पार्टी का नाम "आवाज-ए-पंजाब" रखा गया है। सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर सिद्धू ने पुष्टि की है कि परगट सिंह और बैंस बंधुओं के साथ सिद्धू ने नया मोर्चा बनाया है।

पूर्व खिलाड़ी परगट सिंह भी सिद्धू से जुड़ गए है। उन्होंने इसका नाम फेसबुक पर शेयर किया है। बताया जा रहा है कि सिरमजीत सिंह और बलविंदर बैंस भी पार्टी में शामिल होंगे। सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर का कहना है कि पंजाब के खिलाफ काम करने वालों के लिए फ्रंट बनाया गया है।

बता दें कि सिद्धू ने राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा देने के पीछे पार्टी को दोषी ठहराया था। उन्होंने कहा था कि मैंने इस्तीफा दिया क्योंकि मुझसे कहा गया था कि पंजाब की तरफ मुंह नहीं करोगे।

पहले सिद्धू की आम आदमी पार्टी में शामिल होने की अटकलें चल रही थीं। कुछ दिनों से राजनीतिक गलियारों में कहा जा रहा है कि सिद्धू कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं। लेकिन, अब उनके नई पार्टी बनाने की चर्चाएं गर्म हो गई हैं।

आइए आपको बताते हैं, सिद्धू का अब तक का कैसा रहा सफर

1983: अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट करियर शुरू, अहमदाबाद में पहले टेस्ट मैच में दो पारियों में 19 रन बनाए।

1991: पटियाला निवासी गुरनाम सिंह की पिटाई और हत्या के आरोप में जेल जाना पड़ा।

1999: अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास। उन्होंने टेस्ट और वनडे मैचों में 15 शतकों के साथ कुल 7,000 रन बनाए।

2001: क्रिकेट कमेंटेटर के तौर पर नए करियर की शुरुआत की।

2004: बीजेपी के साथ राजनैतिक करियर की शुरुआत, एक लाख से ज्यादा वोटों से अमृतसर लोकसभा सीट जीती।

2006: गुरनाम सिंह हत्या मामले में दोषी पाए गए और तीन साल की सजा हुई। उनपर दबाव बनाकर संसद से इस्तीफा दिलाया गया।

2007: सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें दोषी ठहराए जाने के फैसले पर स्टे दिया और वे अमृतसर से लोकसभा उपचुनाव जीत गए।

2012: वे रियलिटी टीवी शो बिग बॉस के सीजन 6 का हिस्सा बने।

2014: वित्तमंत्री अरुण जेटली के लिए उनसे जबरन सीट खाली कराई गई। नाराज होकर प्रचार से मना कर दिया।

2016: राज्यसभा भेजे गए। 18 जुलाई को इस्तीफा और ये कयास लगने लगे कि वे पंजाब में आप के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार हो सकते हैं। लेकिन अब उन्होंने एक नए मोर्चे का ऐलान कर दिया है।