अब सिर्फ डेढ़ महीने में धरती से मंगल पर, रूस ने बनाया परमाणु रॉकेट इंजन

नई दिल्ली (21 मार्च): अमेरिका और नासा को चौंकाते हुए रूस ने कहा है कि वो 2018 में न्यूक्लियर रॉकेट इंजन का परीक्षण करेगा। रूस ने कहा कि 2033 में मंगल पर यान इसी रॉकेट से भेजा जायेगा। न्यूक्लियर रॉकेट इंजन से मंगल पर सिर्फ डेढ़ महीने में पहुंचा जा सकेगा। ऐसी भी संभावना जतायी जा रही हैं कि रूस ने ऐसा यान बना लिया है जो मंगल से वापस लौट कर धरती पर आ सकता है।

अभी तक मंगल पर जो भी  मिशन भेजे गये हैं, उनमें से कोई वापस नहीं हुआ है। न्यूक्लियर रॉकेट बनाने वाले प्रोजेक्ट रोसाटॉम के  मुखिया करगेई किरियेने को ने बताया कि इस प्रोजेक्ट पर 274 मिलियन डॉलर का खर्च आया है। रूस से पहले अमेरिका ने न्यूक्लियर रॉकेट प्रोजेक्ट शुरु किया था। अमेरिका ने 1968 में एक रॉकेट का परीक्षण भी किया था, मगर 1973 में अचानक प्रोजेक्ट बंद कर दिया गया।