असम और अरुणाचल को जोड़ने वाले 'महासेतु' से बौखलाया चीन, भारत को दी चेतावनी

नई दिल्ली ( 29 मई ): चीन ने भारत को अरुणाचल प्रदेश में इन्फ्रास्ट्रक्चर बढ़ाए और मजबूत किए जाने को लेकर चेतावनी दी है। उसने कहा है कि भारत को अरुणाचल में आधारभूत ढांचे के निर्माण को लेकर 'सावधानी' और 'संयम' बरतना चाहिए।

चीन का यह बयान ऐसे वक्त आया है जब कुछ दिन पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ढोला और सदिया घाट के बीच बने असम से अरुणाचल को जोड़ने वाले भारत के सबसे लंबे पुल भूपेन हजारिका ब्रिज का लोकार्पण किया था।

चीन के विदेश मंत्रालय ने कहा, 'हम उम्मीद करते हैं कि सीमा विवाद के अंतिम समाधान से पहले भारत सावधान और संयमी रुख अपनाएगा।' चीनी विदेश मंत्रालय ने अपने बयान में कहा, 'चीन-भारत सीमा के पूर्वी हिस्से को लेकर चीन की स्थिति लंबे समय से स्पष्ट है।'

दरअसल पिछले हफ्ते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ब्रह्मपुत्र नदी पर बने भारत के सबसे लंबे पुल का लोकार्पण किया था। भूपेन हजारिका के नाम पर रखा गया यह 9.15 किलोमीटर लंबा पुल असम के पूर्वी हिस्से को अरुणाचल प्रदेश से जोड़ता है, जिसे चीन विवादित क्षेत्र मानता है और दक्षिणी तिब्बत का हिस्सा बताता है। चीन के विदेश मंत्रालय ने कहा, 'चीन और भारत को सीमा विवाद को बातचीत के जरिए निपटाना चाहिए।'