चीन से कारें लाद कर बेल्जियम पहुंची मालगाड़ी

नई दिल्ली (8 जून ): चीन ने पहली बार पूरी तरह अपने देश में बने वाहनों का पश्चिम यूरोप तक एक्सपोर्ट किया है। मंगलवार को चीन के हेलॉन्गजियांग प्रांत के दाकिंग से चली मालगाड़ी 123 कारों को लेकर बेल्जियम पहुंची। यह मालगाड़ी 18 दिन में चीन से बेल्जियम तक पहुंची। रूस, बेलारू, पोलैंड और जर्मनी के रास्ते गुजरते हुए इस ट्रेन ने बेल्जियम में एंट्री की। दाकिंग से बेल्जियम के जिब्रग पोर्ट पहुंची मालगाड़ी ने 9,832 किलोमीटर लंबा सफर तय किया।

 ट्रेन के रूट पर 12 चीनी और 9 यूरोपीय शहर आए। सिल्क रोड के इस रूट को चीन लंबे समय से दोबारा चालू करने के प्रयास में था। यिवू-मैड्रिड रेलवे लाइन दुनिया में एक ट्रेड ट्रेन रूट के तौर पर उभरी है।पिछले साल ब्रिटेन भी इस रूट से जुड़ गया, जब चीन से एक ट्रेन लंदन पहुंची। चीन से यूरोप तक को जोड़ने वाली इस लाइन से जुड़ने वाला लंदन 15वां शहर है। चीन से यूरोप पहुंची मालगाड़ी वापसी में व्हिस्की, विटामिन्स, सॉफ्ट ड्रिंक्स और अन्य सामान लेकर आती है। एक तरफ से यह रूट 12,070 किलोमीटर लंबा है।