'संविधान बोलने की आज़ादी देता है, पर राष्ट्र को तहस नहस करने की नहीं'

नई दिल्ली (20 मार्च): भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की दो दिवसीय बैठक का रविवार को आज दूसरा दिन था। जिसमें केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कहा कि 'भारत माता की जय' पर वाद-विवाद एक ऐसा मुद्दा है जिस पर बहस की गुंजाइश ही नहीं है। 

रिपोर्ट के मुताबिक, अरुण जेटली ने कहा, "भारत का संविधान असहमति के लिए पूर्ण स्वतंत्रता की अनुमति देता है। लेकिन राष्ट्र को तहत-नहस करने की अनुमति नहीं देता।" उन्होंने कहा, देश तोड़ने की बात संविधान के खिलाफ है और हम राष्ट्रवाद से समझौता नहीं करेंगे। जेटली ने यह भी कहा कि पांच राज्यों में होने वाले चुनावों के लिए रणनीति तय हो गई है।

एनडीए सरकार की तारीफ करते हुए जेटली ने कहा कि आज देश में फैसला लेने वाली सरकार है, जिसका लक्ष्य सबका विकास करना है। जेटली ने कहा कि देश में पहले दिशाहीन सरकार थी। हमारी सरकार अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के पक्ष में है।