मथुरा में मुठभेड़ में 8 साल के बच्चे की मौत के मामले में 4 पुलिसकर्मी सस्पेंड

मथुरा (19 जनवरी): मथुरा  में बमदशों से मुठभेड़ के दौरान बुधवार को पुल‍िस की गोली से एक 8 साल के बच्चे की मौत के मामले में आईजी ने प्रथमदृष्टया दोषी मानते हुए दो एसआई समेत चार पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया है। बुधवार शाम मुठभेड़ के दौरान चली गोली से बालक माधव की मौत के बाद उसका गुरुवार की सुबह अंतिम संस्कार कर दिया। 

इस मामले में जांच को गुरुवार को सुबह आईजी और एसएसपी मोहनपुरा गांव में पहुंचे व लोगों से इस घटना के संबंध में जानकारी ली। उनके साथ एसपी क्राइम, एसपी सिटी, आईजी के स्टाफ ऑफिसर, सीओ रिफाइनरी व फोरेंसिक टीम भी गुरुवार को गांव में पहुंची। इस दौरान पुलिस के अधिकारियों ने मृतक के परिजनों से बातचीत कर जानकारी ली।

मृतक के बाबा शिवशंकर के बयान लिए। लोगों का आरोप है कि पुलिस में जुआ खेलने वालों पर गोली चलाई। वहीं पुलिस का कहना है कि गैस लूटकांड में शामिल आरोपी के होने की सूचना पर पुलिस गांव में गयी थी। गोली लगने की जांच की जा रही है। फोरेंसिक टीम ने मौके को यलो टेप लगाकर नमूने लिए। गांव का माहौल लगभग सामान्य है। इधर लोगों की माने तो बच्चे को पुलिस की गोली लगी है।

घटना के समय दो बाइक पर पुलिस कर्मी आए तो बाद दूसरी तरफ से बोलेरो से पुलिस आयी। इस घटना में पूछताछ के बाद आईजी राजा श्रीवास्तव ने दरोगा वीरेंद्र सिंह और सौरभ शर्मा, सिपाही उधम सिंह और सुभाष को सस्पेंड कर दिया। इस दौरान पुलिस ने प्रथमदृष्टया पुलिस की गोली से बच्चे की मौत मानी। यह माना जा रहा है कि वीरेंद्र के द्वारा चलाई गोली से बालक मरा। वहीं दरोगा सौरभ घायल बालक को रास्ते मे छोड़ जाने का दोषी माना जा रहा है। इधर पीड़ित परिवार को डीएम ने मुख्यमंत्री सहायता कोष से पांच लाख रुपये का चेक देते हुए घटना के मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए हैं।