Blog single photo

केरल: दुष्कर्म के आरोपी बिशप का विरोध करने वाली 4 नन को कॉन्वेंट छोड़ने को कहा

केरल के बहुचर्चित नन दुष्कर्म मामले में आरोपित बिशप फ्रैंको मुलक्कल के खिलाफ सितंबर 2018 में आंदोलन चलाने वाली पांच में से चार नन को कोट्टायम जिले में स्थित कॉन्वेंट को छोड़ने के लिए कह दिया गया है। सूत्र ने बुधवार को बताया कि पिछले साल इनके स्थानांतरण के आदेश जारी किए गए थे। अब इनका अनुपालन कराया जा रहा है।

न्यूज24 ब्यूरो, नई दिल्ली (16 जनवरी): केरल के बहुचर्चित नन दुष्कर्म मामले में आरोपित बिशप फ्रैंको मुलक्कल के खिलाफ सितंबर 2018 में आंदोलन चलाने वाली पांच में से चार नन को कोट्टायम जिले में स्थित कॉन्वेंट को छोड़ने के लिए कह दिया गया है। सूत्र ने बुधवार को बताया कि पिछले साल इनके स्थानांतरण के आदेश जारी किए गए थे। अब इनका अनुपालन कराया जा रहा है।

मार्च और मई 2018 में जारी स्थानांतरण आदेश के अनुसार, रोमन कैथोलिक चर्च के जालंधर धर्मप्रांत अंतर्गत आने वाले मिशनरी ऑफ जीसस ने चारों नन को पूर्व में जारी स्थानांतरण आदेश के अनुसार तय कॉन्वेंट में जाने के लिए कह दिया है। हालांकि, बिशप मुलक्कल पर दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली सहकर्मी के साथ रह रही चारों नन ने स्पष्ट किया है कि वे कुराविलंगाड स्थित कॉन्वेंट नहीं छोड़ेंगी।

सिस्टर एल्फी का तबादला पकरतला कॉन्वेंट बिहार तथा सिस्टर एनसिटा और सिस्टर जॉसफिन का लालमटिया कॉन्वेंट झारखंड में कर दिया गया था। आंदोलन का नेतृत्व करने वाली सिस्टर अनुपमा को मिशनरी ऑफ जीसस मंडली पंजाब को रिपोर्ट करने को कहा गया था। हालांकि, आंदोलन में शामिल सिस्टर नीना रोज को कॉन्वेंट छोड़ने के लिए नहीं कहा गया है।

हालिया पत्राचार में सुपीरियर जनरल रेजिना ने चारों नन द्वारा कॉन्वेंट न छोड़ने पर चिंता जताई है। उन्होंने कहा, 'आप लोगों ने मेरे बार-बार के आदेश और निर्देशों अनुपालन न करने का निर्णय लिया है। यह आपकी धार्मिक प्रतिज्ञा और प्रतिबद्धताओं को जाहिर करता है।'

NEXT STORY
Top