पैराडाइज पेपर्स: पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री सहित कई कारो‍बारियों का भी नाम

इस्‍लामाबाद (6 नवंबर): एक बार फिर जर्मनी के जीटॉयचे साइटुंग नामक अखबार ने 18 महीने बाद 'पैराडाइज पेपर्स' नाम से ऐसा खुलासा किया है, जिससे दुनिया में खलबली मच गई है। इस खुलासे के जरिये उन फर्मों और फर्जी कंपनियों के बारे में बताया गया है, जो दुनियाभर में अमीर और ताकतवर लोगों का पैसा विदेशों में भेजने में उनकी मदद करते हैं।

इसमें पाकिस्‍तान के पूर्व प्रधानमंत्री शौकत अजीज का नाम भी शामिल है। अजीज साल 2004-2007 तक पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री रहे थे। 'पैराडाइज पेपर्स' में अजीज के अतिरिक्‍त नेशनल इंश्‍योरेंश कॉरपोरेशन लिमिटेड (NICL) के पूर्व अध्‍यक्ष अयाज खान नियाजी का नाम भी शामिल है। इसके अलावा दस्‍तावेजों में तेल एवं गैस सेक्‍टर की कई कंपनियों और कारोबारियों के नाम भी हैं।

अजीज का नाम अंटार्कटिक ट्रस्‍ट के संबंध में आया है, जिसका गठन उन्‍होंने किया था और इसके लाभार्थियों में उनकी पत्‍नी, बच्‍चे शामिल हैं। अजीज ने साल 1999 में पाकिस्‍तान का वित्‍त मंत्री बनने से पहले इस ट्रस्‍ट का गठन अमेरिकी राज्‍य डेलावेयर में किया था। उस वक्‍त वह सिटिबैंक के लिए काम कर रहे थे। उन्‍होंने पाकिस्‍तान का वित्‍त मंत्री या प्रधानमंत्री रहते हुए इस ट्रस्‍ट के बारे में खुलासा नहीं किया था।

'पैराडाइज पेपर्स' में 1.34 करोड़ दस्तावेज इंटरनेशनल कॉन्सोर्टियम ऑफ इंवेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट्स (आईसीआईजे)  तथा 95 मीडिया पार्टनर्स द्वारा जारी 'पैराडाइज पेपर्स' में करीब 31,000 व्‍यक्तियों या कंपनियों के बारे में जानकारी है। इसमें 1.34 करोड़ दस्तावेज शामिल हैं।