जस्टिस कपाड़िया का निधन, पीएम ने जताया शोक

नई दिल्‍ली (4 जनवरी): 2जी, सहारा, वोडाफोन और सल्वा जुडूम जैसे कई अहम मामलों में फैसला सुनाने वाले सुप्रीम कोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस सरोष होमी कपाड़िया का मंगलवार सुबह देहांत हो गया। बीमारी के चलते कपाड़िया को मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

खुद पीएम मोदी ने ट्विट कर कपाड़िया के निधन पर शोक जताया। पीएम ने अपने ट्विट में लिखा कि ज्यूडिसरी सिस्टम को मजबूत बनाने के लिए जस्टिस कपाड़िया के काम को हमेशा याद रखा जाएगा। उनके निधन से दुख हुआ।

न्यायिक करियर जस्टिस कपाड़िया ने 1974 में बॉम्बे हाईकोर्ट से अपना करियर शुरू किया था और 17 साल बाद वे बॉम्बे हाईकोर्ट में ही एडिशनल जज बने। दो साल उन्हें परमानेंट पोस्टिंग मिल गई। साल 2003 में उन्हें उत्तराखंड भेज दिया गया। कुछ वक्त के लिए कपाड़िया यहां चीफ जस्टिस भी रहे। इसके बाद उन्हें सुप्रीम कोर्ट भेजा गया। सुप्रीम कोर्ट में 3207 दिन रहने वाले कपाड़िया ने कुल 834 जजमेंट और ऑर्डर दिए। 12 मई 2010 को उन्हें सुप्रीम कोर्ट का चीफ जस्टिस बनाया गया। 28 सितंबर 2012 तक वे चीफ जस्टिस रहे।